728x90 AdSpace


  • Latest

    शुक्रवार, 21 जुलाई 2017

    एस एम मासूम जी ने जौनपुर के पत्रकार जगत को वेब पत्रकारिता का तोहफा दिया | डॉ पवन विजय


     रामचरित मानस में एक जगह दुनिया भर के लोगों का वर्गीकरण किया गया है. जिसमे पहली श्रेणी में वो लोग है जो करनी में विश्वास करते है दूसरी श्रेणी में वो लोग है जो कहने और उसे करने की कोशिश करते है . तीसरी श्रेणी में लबार लोग आते है जो चिल्ल पों मचाने जिंदाबाद मुर्दाबाद गप्प हांकने अपनी बडाई करने में मशगूल रहते है|

    एस एम् मासूम से  उनके जौनपुर आगमन पे एक मुलाक़ात उनके  घर ज़ुल्क़द्र मंजिल में |
    यह जौनपुर का सौभाग्य है कि उनके पास सैय्यद मोहम्मद मासूम जैसा पहली श्रेणी का शख्स है जो बिना परिणाम की चाह किये अपने कर्म में रत है| मासूम भाई ने साबित कर दिया कि अमन का पैगाम महज जिव्हा से नही अपितु कर्म के द्वारा सही तरीके से दिया जा सकता है| 

    जौनपुर में वेब पत्रकारिता के भीष्म पितामह कहलाने वाले एस एम मासूम जी ने जौनपुर  के पत्रकार जगत को वेब पत्रकारिता का तोहफा दिया जागरूक किया और केवल इतना ही नहीं बिना किसी लोभ के जौनपुर के इतिहास और यहाँ की प्रतिभाओं को विश्व से रूबरू करवाया |
     
    सबसे बड़ी विशेषता एस एम् मासूम में यह है की जो भी इनके पास सहयोग के लिए पहुँच गया ये उसे सहयोग देते हैं और हमेशा यही कहते हैं ना काहू से दोस्ती ना काहू से बैर | वतन की और यहाँ के लोगों के लिए सच्चे प्रेम को अगर देखना हो तो आप इसे एम् एम् मासूम जी में देख सकते हैं | हमारी शुभकामनाएं इनके साथ हैं |

    डॉ पवन विजय

    Dr. Pawan K. Mishra
    Associate Professor of Sociology
    Delhi  Institute of Rural Development
    New Delhi.
    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    11 comments:

    1. मासूम साहब का पूरा खानदान ऐसा ही है. इंसानियत से भरा. धन्यवाद् पवन जी

      जवाब देंहटाएं
    2. Massom Sahab Ko bahut bahut badhai........unki is nekdili ke liye hum bhi kayal hai unke..........

      जवाब देंहटाएं
    3. मासूम जी का काम हमेशा क़ाबिले-ज़िक्र और क़ाबिले-तारीफ होता है.

      जवाब देंहटाएं
    4. जल अमृत है .
      ज्ञान को भी अमृत कहते हैं .
      जल से तन निर्मल होता है , शांत होता है .
      ज्ञान से मन निर्मल होता है, शांत होता है .

      http://commentsgarden.blogspot.com/2011/04/blog-post_20.html

      जवाब देंहटाएं
    5. जल अमृत है .
      ज्ञान को भी अमृत कहते हैं .
      जल से तन निर्मल होता है , शांत होता है .
      ज्ञान से मन निर्मल होता है, शांत होता है .

      http://commentsgarden.blogspot.com/2011/04/blog-post_20.html

      जवाब देंहटाएं
    6. मासूम जी मासूम होने के साथ एक नेक इंसान भी हैं!

      जवाब देंहटाएं
    7. हर नेक काम बंदगी है. मासूम जी के लिए शुभकामनाएँ.

      जवाब देंहटाएं
    8. सराहनीय कार्य।
      ===============
      "डंडा" संत स्वभाव की, यही मुख्य पहचान।
      औरों की हरके व्यथा, करते जन-कल्याण॥
      ===========================
      सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी
      ============================

      जवाब देंहटाएं
    9. जनाब मासूम साहेब को कैस जौनपुरी का सलाम...!

      जवाब देंहटाएं

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: एस एम मासूम जी ने जौनपुर के पत्रकार जगत को वेब पत्रकारिता का तोहफा दिया | डॉ पवन विजय Rating: 5 Reviewed By: PAWAN VIJAY
    Scroll to Top