728x90 AdSpace


  • Latest

    रविवार, 23 जुलाई 2017

    समाज में कुत्ते का स्थान

     https://www.facebook.com/jaunpurbazaarकुत्ता उन गिने चुने जानवरो में एक है जो इन्सानी सभ्यता के सब से क़रीब रहा और रूखी सुखी खा के भी अपने मालिक के लिए वफादारी के लिए मिसाल पेश करता रहा। हिंदी फिल्मो में इसका इस्तेमाल विलेन को गाली देने के काम में आता रहा मगर यह भी सच है की कुत्ते का विकास मानव सभ्यता के विकास के साथ होता रहा। आज समाज में दो प्रकार के कुत्ते पाये जाते है १. अमीर कुत्ते जिन्हे उनका मालिक पेट कहता है और प्यार से उसके नाम से सम्बोधित करता है। कोई राहगीर या कोई परचित उसे गलती से कुत्ता कह दे तो मालिक उसके सम्बोधन से नाराज़ हो जाता है और तुरन्त अमुक व्यक्ति के सम्बोधन पर अपनी नाराज़गी ज़ाहिर कर देता है। २. वह कुत्ते जो सड़क पर पैदा होते है और सड़क पर मर जाते है। उनके नाम नहीं होते वह बेनाम होते है और उनका भोजन घरो में बचे झुटे भोजन के अवशेष होते है कोई घर नहीं होता जहॉ जगह मिले सो जाते है। इतना कुछ होने के बावजुद वे मानव समाज के प्रति निष्टावान होते है रात को जब सब सो रहे होते है यह आवारा कुत्ते जिन्हे अमूमन हम देसी कुत्ता कहते है किसी भी संदिग्ध व्यक्ति को स्वतन्त्र विचरण की इजाज़त नहीं देते बन्दरों से हिफाज़त करते फिर भी उपेझित रहते यह देशी कुत्ते।


    स्विट्जरलैंड और आयरलैंड के आदिवासी भी खेती करने से पहले कुत्ते पालते थे जिनसे वे शिकार और रखवालों में सहायता लेते थे तथा इनके मांस का भी सेवन करते थे। भारत में कुत्ते ऋग्वेद काल से ही पाले जाते रहे हैं। ऋग्वेद में कुत्ते को मनुष्य का साथी कहा गया है। ऋग्वेद में एक कथा है कि इंद्र के पास सरमा नामक एक कुतिया थी। उसे इंद्र ने बृहस्पति की खोई हुई गायों को ढूँढ़ने के लिए भेजा था। उसमें श्याम और शबल नामक कुत्तों का उल्लेख है; उन्हें यमराज का रक्षक कहा गया है। महाभारत के अनुसार एक कुत्ता युधिष्ठिर के साथ स्वर्ग तक गया था। मोहन जोदड़ो से प्राप्त मृत्भांडों पर कुत्तों के अनेक चित्र प्राप्त होते है। उनमें उनके उन दिनों पाले जाने का परिचय मिलता है।



    कहते है रोमन के शासन काल में जब यहूदी  धर्म का बोल बाला था कुछ लोगो का समूह हज़रात ईसा के ज़हूर(आगमन) के लिये निरन्तर खुदा से प्रार्थना कर रहे थे और नबी का इंतेज़ार जब इसकी भनक राजा को लगी वह बहुत नाराज हो गये और उन्हें मारे जाने के लिए एक आदेश जारी किया गया। अपने ईमान (विश्वास) को बचाने के क्रम में वे भागे और भागने के दौरान उनकी भेट एक नवयुवक किसान से हुई जो एक कुत्ते का स्वामी था और उसने भी साथ आने की विनती की, धार्मिक ग्रंथो के अनुसार समूह ने नवयुवक किसान को अपने साथ आने के न्योता को स्वीकार किया तथा उन्हें भी शामिल होने पर रज़ामंदी का इज़हार किया। कहते है की कुत्ता भी अपने मालिक के साथ हो लिया तथा समूह का यह मानना था की कुत्ता भौक के उनके छुपने के राज़ को उजागर कर देगा। कहते है खुदा जिससे चाहे बुलवा सकता है कुत्ते ने यह कहा की वह वफ़ादार है और वह अपने मालिक और समूह की हिफाज़त करेगा, नतीजा कुत्ते के विनर्म निवेदन के पश्चात समूह ने उस कुत्ते को भी अपने साथ आने की इजाज़त दे दी। उस कुत्ते का नाम कितमीर था और क़ुरान के हवाले से वह जन्नत का हक़दार है। समूह ने एक गुफ़ा में शरण ली और कहते है यह समुह उस गुफ़ा में खुदा ने उन्हें ३०० सालो के लिये सुला दिया और कुत्ता उस गुफ़ा के प्रवेशद्वार पर एक गार्ड के रूप बैठा रहा। क़ुरान शरीफ़ में इसका ज़िक्र सूरह-ए कहफ़ १८:१८ में दर्ज है।





    यह देसी कुत्ते प्राय झुण्ड में रहते है जिसमे एक हष्ट-पुष्ट कुत्ता उनका मुखिया होता है और बाकि कमज़ोर कुत्ते और कुछ कुतिये उनके सदस्य इनके इलाके तय होते है और अधिकांश यह अपने इलाके में बेरोक टोक घुमते है किसी बाहरी कुत्ते को इनके इलाके में आने की इजाज़त नहीं होती अगर गलती से कोई बाहरी कुत्ता इनके इलाके में प्रवेश कर जाये तो उसकी भनक उस इलाके के कुत्तो के समुह को तुरन्त हो जाती है और भिन्न प्रकार की आवाज़ में भौकना शुरू कर देता है जो शायद अपने मुखिया और अन्य सदस्यों को चेतावनी होती है की कोई विदेशी घुसपैठ हमारे इलाके में प्रवेश कर गया है फिर तत्काल सारा समुह इकट्टा हो कर उस विदेशी घुसपैठ पर पील पड़ते है और इस आक्रमण की कमान मुखिया के हाथ में होती है। कुत्तो में एक बात अच्छी होती है की जो विदेशी घुसपैठिया अपनी पिछली टांगो के बीच अपनी दुम डाल के आत्मसमर्पण कर देता है फिर उसपर किसी प्रकार का हमला नहीं किया जाता यह विशेषता इंसानो से अलग है। यह मेरा अनुभव है की जब देसी कुत्ते हमला करे तो उनके मुखिया को यदि आघात पंहुचा देने में सफलता मिल जाये तो पूरा का पूरा समूह अपने शिकार को छोड़ कर भाग जाते है।


    आज हमारे सभ्य समाज में पालतू कुत्तो का स्थान कुछ चुनिंदा पूजीपतियों ने ले ली है और पुरे देश के बाणिज्य पर अपना प्रभुत्व स्थापित करने में सफल रहे है और देश की राजनीती की धुरी के रूप में पहचाने जाते है और अवाम नबी की आमद का इंतेज़ार में मशगूल।


    Writer: Asad Jafar

    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: समाज में कुत्ते का स्थान Rating: 5 Reviewed By: Unknown
    Scroll to Top