728x90 AdSpace


  • Latest

    रविवार, 23 जुलाई 2017

    जौनपुर के विकास में रोड़ा बना राजनीती -राजन तिवारी

    लेखक  ( राजन तिवारी ) 
    rajan15feb@gmail.com
    8765339392
    जौनपुर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक प्रमुख शहर एवं लोकसभा क्षेत्र है। मध्यकाल में शर्की शासकों की राजधानी रहा जौनपुर वाराणसी से 58 किमी. दूर है।  गोमती और सई मुख्य पैतृक नदियों हैं। इनके अलावा, वरुण, पिली और मयुर आदि छोटी नदिया हैं। मिट्टी मुख्य रूप से रेतीले, चिकनी बलुई हैं। जौनपुर अक्सर बाढ़ की आपदा से प्रभावित रहता है |

    इस शहर की स्थापना 14वीं शताब्दी में फिरोज तुगलक ने अपने चचेरे भाई सुल्तान मुहम्मद की याद में की थी। सुल्तान मुहम्मद का वास्तविक नाम जौना खां था। इसी कारण इस शहर का नाम जौनपुर रखा गया। 1394 के आसपास मलिक सरवर ने जौनपुर को शर्की साम्राज्य के रूप में स्थापित किया। शर्की शासक कला प्रेमी थे। उनके काल में यहां अनेक मकबरों, मस्जिदों और मदरसों का निर्माण किया गया। यह शहर मुस्लिम संस्कृति और शिक्षा के केन्द्र के रूप में भी जाना जाता है। यहां की अनेक खूबसूरत इमारतें अपने अतीत की कहानियां कहती प्रतीत होती हैं। वर्तमान में यह शहर चमेली के तेल, तम्बाकू की पत्तियों, इमरती और स्वीटमीट के
    लिए लिए प्रसिद्ध है।





    शिराज़-ए-हिन्द कहे जाने वाले जौनपुर को आज गंदी राजनीती ने अपने चपेट में ले लिया है,आज विकास के नाम पर बड़े बड़े राजनेता अपनी रोटी सेक रहे है,जिले में बड़े बड़े पोस्टर-बैनर तो दिखते है पर जमीनी हकीकत कुछ और ही बाया करती है आज जौनपुर की सडको में गड्ढ़े नहीं गड्ढ़े में जौनपुर है, आज जौनपुर में बिजली का संकट है,जौनपुर आज भी कई छोटे-बड़े मूलभूत समस्याओ और चीजों से वंचित है,जौनपुर की बदहाली का एक छोटा सा उदहारण वहाँ के सिंगल स्क्रीन सिनेमाघरों से लगया जा सकता है इस देश में कई ऐसे छोटे शहर है जहाँ लोग जौनपुर आते और लोगो के साथ झूटे वायदे कर के चले जाते है.परन्तु 9 विधान सभा और 2 लोक सभा सीटो वाले जौनपुर सिर्फ इतिहास के पुराने पन्नो में सिमट कर रह गया है ये अपने हक और अधिकार के लिए तरस्ता तो जरुर है लेकिन अफ़सोस इस बात का है की कोई भी इसका सुद्ध तक लेने वाला नहीं है इसे या तो विडम्बना कहे या जौनपुर का दुर्भाग्य जो कभी ज्ञान का केंद्र हुआ करता था और आज के वर्तमान परिद्रीस्य में ये खुद अशिक्षा और बहुत से भौतिक संसाधनों की कमी से ग्रसित है| जिले के पिछडेपन का ताज़ा उदहारण देखने को तब मिलता है जब हमारे ही बच्चे बाहर जाकर अपने जौनपुर का नाम लेने से कतराते है |

    जौनपुर में दो मुख्य रेलवे स्टेशन हैं, 1. जौनपुर जंक्शन, 2. जौनपुर सिटी स्टेशन। लेकिन दोनों ही स्टेशनो में कोई भी विकास का कार्य नहीं हुआ आज भी दोनों स्टेशन में मूल सुविधा की कमी है |  जिले का आर्थिक विकास मुख्य रूप से कृषि पर निर्भर है,पर यहाँ के किसान पानी से वंचित है जौनपुर जिला की जनसंख्या के तीन चौथाई कृषि पर निर्भर है। आज जिले का शिक्षा इस्तर बदहाल है किसी समय में यहाँ से कई छात्र सरकारी नौकरी में चयनित होते थे मगर आज हालत बात से बतर हो गयी है | अगर यही आलम रहा तो आने वाले दिनों में जौनपुर का
    उपयोग सिर्फ वोट बैंक के इस्तमाल के लिए ही किया जायेगा |

    .....लेखक राजन तिवारी
     https://www.facebook.com/jaunpurbazaar
    लेखक के विचारों से हमारा जौनपुर टीम सहमत हो यह आवश्यक नहीं | | एडमिन
    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    8 comments:

    1. MAI LEKHAK K VICHAR SE BILKULSEHMAT HUN, JAUNPUR K VIKAS ME YANHA K RAJNETAON KI GHATIYA KOOTNEETIYA HMESHA RUKAVAT DALTI HAIN.

      जवाब देंहटाएं
    2. I TOTALLY AGREE WITH THE WRITER , THE POINTS HE HAS RAISED ARE VERY TRUE AND THE WAY HE EXPLAINED THE OBSTACLES IN DEVELOPMENT OF JAUNPUR IS APPRECIABLE.. IN SHORT - EK NUMBER !!!!!

      जवाब देंहटाएं
    3. mai lekhak ki sampurn baato se sahmat hoon...tatha lekhak ki vicharo ki sarahna karta hoon....lekhal ne jaunpur ki samast samsya ko jyu ka tyo paridrisya patal par uker dia h, jo ki prasansniya h...!!!

      जवाब देंहटाएं
    4. YES I AGREE WITH THE WRITER THIS EVIL POLITICS HAS SPOILED THE CITY I WANT DEVELOPMENT AND NOT PROMISES

      जवाब देंहटाएं
    5. RAJAT BHATIYA SAID.....MAI LEKHAK KI BATOO KA SAMMAN KARTA HU AUR UNKE UJWAL BHAVISHYA KI KAMNA KARTA HU........

      जवाब देंहटाएं
    6. BAHUT SAHI LIKHA HAI LEKHAK NE JAUNPUR KE VISHAY MEIN....MAIN UNKE AUR JAUNPUR KE UJJWAL BHAVISHYA KI KAAMNA KARTA HU....

      जवाब देंहटाएं
    7. I think he raised all the problems of JAUNPUR that what's happening to the social society. Then point out all the extra positive things to shift the balance of JAUNPUR from a negative to a positive one...

      जवाब देंहटाएं
    8. hamare yahan raajneeti to hoti h parantu gandi...rajneeti honi chahiye vikaas ki,na ki jativaad or anya buraeiyon se lipti hui...main lekhak ki in baaton se sehmat hun k vikaas m rajneeti baadha banti h..parantu ye rajneeti vikas ki hi ho to bahut kuch badal sakta h..mere mitra dwara likhit yeh lekh jaunpur ki sachai bayaan karta h...bahut ache mere mitra..keep it up..

      जवाब देंहटाएं

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: जौनपुर के विकास में रोड़ा बना राजनीती -राजन तिवारी Rating: 5 Reviewed By: S.M.Masoom
    Scroll to Top