728x90 AdSpace


  • Latest

    सोमवार, 29 मई 2017

    सियासत की राहों पे चलना संभल कर | ---लेखक डॉ दिलीप कुमार सिंह

     सियासत की राहों पे चलना संभल कर | ---लेखक डॉ दिलीप कुमार सिंह

     https://www.facebook.com/hamarajaunpur/
    कहते हैं कि राजनीती में कोई किसी का नहीं होता और अभी तक के अनुभव भी कुछ ऐसा ही सिद्ध करते हैं |देखने में यह भी आया है कि एक ही घर के लोग अक्सर अलग अलग राजनितिक दल से सम्बन्ध रखते हैं |स्वतंत्र भारत इस बात का सबसे अच्छा उदाहरण है जहां पर प्रारंभ में केवल कांग्रेस जनसंघ,वामदल अवं कुछ अन्य दल ही थे लेकिन आज इन्ही ४-५ दलों से सैकड़ों पार्टियाँ बन गयी हैं | राजनीती में सफलता पाने हेतु नैतिकता विहीन अवसरवाद सबसे बड़ा हथियार है | राजनीती की इस बलिवेदी पे इदिरा गाँधी,राजीव गाँधी,संजय गाँधी ,लाल बहादुर शास्त्री ,पंडित दीनदयाल उपाध्याय सहित जा जाने कितने चढ़ गए |इसीलिये राजनीती को “लखैरों की अंतिम परिणीती” कहा जाता है जहाँ सब कुछ जायज़ है |



    राजनीति में आने वाले कितने ही लोग “बिना पेंदी के लोटे जैसे हुआ करते हैं |इसमें पता नहीं कब आक़ा समर्पित से समर्पित कार्यकर्ताओं,पदाधिकारियों ,सांसदों,विधायकों को निकाल फेंके और यह भी पता नहीं होता की घोर से घोर दुश्मन कब मिल जाए | इसी समझने के लिए सपा –बसपा ,सपा-भाजपा,सपा-कांग्रेस ,भाजपा-ममता ,जयललिता-कांग्रेस जैसे गठजोड़ों को देखें |राजनीती में कोई भी चीज़ स्थाई अथवा अपनी नहीं हुआ करती |श्रीमती मेनका गांघी का उदाहरण द्रष्टव्य है जो कांग्रेसी खानदान से होते हुए भी घोर भाजपाई हैं और उनका बेटा वरुण गाँधी भी उनके साथ है |



    आज राजनीति का मुख्य लक्षया सफलता प् के येनकेन प्रकारेण कुर्सी हथिया के अपना कल्याण करना रह गया है भले ही इसके लिए जनकल्याण,समाज कल्याण का नारा दिया जाए |विश्व राजनीती भी कुछ इस से अलग नहीं है जैसे अटल बिहारी बाजपेयी ने सम्बन्ध सुधारने के लिए पाकिस्तान की यात्रा की और उसके बाद ही कारगिल युद्ध हो गया |कभी नेहरु हिंदी चीनी भाई भाई का नारा लगवा के गदगद होते हैं तो दूसरी तरफ चीन भयंकर आक्रमण देश का लाखों वर्गमील हड़पकर बार बार भारत को धमका कर उसकी सीमाओं में घुसने की फ़िराक में रहता है }चीन अमरीका के सम्बन्ध एक दुसरे से अच्छे न होते हुए भी एक दुसरे से सबसे बड़े व्यापारिक साझेदार है| बंगला देश को आज़ाद करवाने वाले भारत के लिए आज बांग्लादेश ही सरदर्द बना हुआ है |कभी घूर दुश्मन रहे पूर्वी अवं पश्चिमी जेर्मनी का तथा कई अन्य देशों का विलय हो चुका है | रूस का पतन अवं वेघ्तन हो चुका है | इसी को सियासत की कठिन राहें कहते हैं जिनपे संभल के चलना आवश्यक है |



    लेखक :Dr. Dileep Kumar Singh Juri Judge, Member Lok Adalat,DLSA, Astrologist,Astronomist,Jurist,Vastu and Gem Kundli Expert. Cell:९४१५६२३५८३

    लेखक के विचारों से हमारा जौनपुर डॉट कॉम सहमात हो यह आवश्यक नहीं | किसी प्रकार के मतभेद पे लेखक से सम्पर्क करें | एस एम् मासूम 
    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: सियासत की राहों पे चलना संभल कर | ---लेखक डॉ दिलीप कुमार सिंह Rating: 5 Reviewed By: S.M.Masoom
    Scroll to Top