728x90 AdSpace


  • Latest

    सोमवार, 29 मई 2017

    “सावधान सावधान सावधान कही कार्बाइड से पके फल खाने के बाद आप की सेहत ही न विगड़ जाय|

    जी हाँ सब्जी तो तूतिया और कलर से रंगी हुई मिलती है, फल खरीदिये तो कार्बाइड से पके या इंजेक्शन से तैयार किये हुए मिलते हैं| पहले सुनते थे गाँव में शुद्ध दूध, दही ,फल सब्जी मिलती है लेकिन अब यह रोग सभी जगह लग चूका  है | फलों का पकना एक धीमी जैव रासायनिक प्रक्रिया है। मगर इतना इन्तंजार कौन करे। मनुष्य की इसी अधीरता को देख संत कबीर कह गए हैं |

    धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय

    काली सीचें सो घोड़ा ऋतु आवे फल होय |

    यह सब तो व्यापार है और धन के आगे कहाँ इंसानों की जान की कोई कीमत होती है | आप ध्यान में रखें खाने के पहले फल और सब्जियां धो अवश्य लें जिस से यह केमिकल निकल जायें | आज आप  पपीता  खाएं ,आम  खाएं या केले  सभी  कार्बाइड  से  पके  होते  हैं और  खाते  ही  डॉक्टर  के  पास  पेट के इलाज के लिए जाना पड़ सकता है |

    “सावधान सावधान सावधान कही केला खाने के बाद आप की सेहत ही न विगड़ जाय”

    बाजारों की दुकानों और ठेलो पर बिक रहे सुन्दर केले को देखते हर व्यक्ति का मुंह पानी से भर जाता है। ना चाहते हुए भी आम जनता केले की सुन्दर से आकर्षित होकर खरीद कर खुद खाता है और अपने परिवार को खिलाने के लिए घर पर ले जाता है। लेकिन क्या आप को पता है कि इन केलो को पकाने के लिए जहरीले प्रदार्थ का इस्तेमाल किया गया है।। चाइल्ड रोग विशेषज्ञ डॉ0 विनोद कुमार सिंह के अनुसार कारबाईट नामक यह रासायनिक प्रदार्थ शरीर के गुर्दे ,हार्ट को सीधे नुकसान पहुंचाता है और दिमाग को भी कमजोर करता है।

    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: “सावधान सावधान सावधान कही कार्बाइड से पके फल खाने के बाद आप की सेहत ही न विगड़ जाय| Rating: 5 Reviewed By: S.M.Masoom
    Scroll to Top