728x90 AdSpace


  • Latest

    शनिवार, 6 मई 2017

    मोमबत्ती और बल्ब की कहानी

    लेखक इमरान रिज़वी
    मोमबत्ती और बल्ब की भी एक अजब कहानी है,बड़ा अजीब सा रिश्ता है , इतिहास भरा पड़ा है इनके आपसी रिश्ते की कहानियों से, जी हाँ मोमबत्ती और बल्ब का इतिहास, जब जब मोमबत्तियों की बस्ती में कोई बल्ब आया उसे परेशानियों का सामना करना पड़ा है,लेकिन बल्ब ने इन परेशानियों से हार मान कर रौशनी देना नहीं छोड़ा,ऐसे ही एक बल्ब की क़ुरबानी की कहानी आज आपको सुनाता हूँ ,

    बहुत समय पहले की बात है,मोमबत्तियों के एक देश में कहीं से एक बल्ब रहने आया,एक शहर में छोटी सी खोली बना कर रहने लगा, शहर के और आस पास की मोमबत्तियां उसे बड़ी अजीब नज़रों से देखतीं,उसके बारे में तरह तरह की कहानियां बनतीं, जब बल्ब बाहर निकलता तो कुछ आवारा किस्म की मोमबत्तियां उसपे फब्तियां कसतीं,उसे ताने दिए जाते, छोटे छोटे बच्चे और जवान मोमबत्तियां अक्सर बल्ब की तरफ आकर्षित हो जाते थे,उन्हें बल्ब की तेज़ चमक बड़ी अच्छी लगती थी, वो भी अपने वजूद में उस बल्ब की रौशनी पाना चाहते थे ,इस बात से शहर की चालाक सयानी राजनैतिक मोमबत्तियां खतरा महसूस करती थीं, की अगर सारी जवान मोमबत्तियां बल्ब की तरफ आकर्षित होकर उसकी तरह की हो गयीं तो संसार से मोम बत्तियों का प्रभुत्व ख़त्म हो जायेगा,
    संसार को अँधेरे में रौशनी देने का उनका गौरवशाली इतिहास किसी बल्ब के क़दमों की गर्द के तले दब कर रह जायेगा,लिहाज़ा मोमबत्तियों के अस्तित्व के लिए बल्ब का खत्म होना बेहद ज़रूरी है, इस आशय को अमली जामा पहनाने के लिए मोमबत्तियों ने एक दिन एक ख़ास जगह पर कुछ ख़ास बुद्धिजीवी मोमबत्तियों की बैठक बुलाई,
    उस बैठक मे बस्ती की सभी बड़ी बड़ी मोमबत्तियां शामिल हुई थीं,सभा में व्यापारी संघ की मोमबत्तियां सबसे आगे बैठीं थीं, उनके पीछे बुद्धिजीवी, सामाजिक मोमबत्ती ,डॉक्टर वकील मोमबत्तियां,पत्रकार मोमबत्तियां और धर्मगुरु मोमबत्तियां इत्यादि मौजूद थीं,
    कुछ दो चार युवा मोमबत्तियां भी थीं जो युवक मोमबत्ती संघों या संगठनों की नेता मालूम होती थीं, इनका काम होता था बड़ी मोमबत्तियों के कार्यक्रमों में युवा मोमबत्तियों की भीड़ इकट्ठी करना,इस लिहाज़ से यह तत्काल मोमबत्ती सियासत में काफी अहम् स्थान रखते थे, इन्हें सभी बड़ी और "बुज़ुर्ग" मोमबत्तियों का खुला वरदहस्त प्राप्त था,बड़ों के दीगर जरायम में इनका हिस्सा भी तय शुदा होता था... बहरहाल किसी तरह से यह मीटिंग शुरू हुई, एक सबसे बूढी मोमबत्ती को "लोकतान्त्रिक सर्वसम्मति" से महान मोमबत्ती सभा का अध्यक्ष मनोनीत किया गया, अध्यक्ष की अनुमति से एक एक कर के वक्ताओं ने भाषण देना शुरू किया,
    पहला वक्ता बोला -"दोस्तों,हम मोमबत्तियों का एक गौरवशाली इतिहास रहा है, सालों से हमारे पूर्वज इस संसार को रौशनी देते चले आ रहे हैं,आज हमारे बीच कोई अजीब सा बल्ब नाम का प्राणी आ गया है,यह बल्ब किसी पागल सनकी इंसान का इजाद किया हुआ एक हथियार है जो खुद को वैज्ञानिक कहता है और हमारी रूढ़ियों और परम्पराओं को पाखण्ड और दिखावा कहता है, हमारे गौरवशाली इतिहास को दरकिनार करते हुए आज वो हमारे अस्तित्व को ही समाप्त कर देना चाहता है"
    इस भाषण की समाप्ति पर खूब तालियाँ बजीं, फिर अध्यक्ष की अनुमति से एक दूसरी बूढी मोमबत्ती ने बोलना शुरू किया, -"प्यारे साथियों ! आप अच्छी तरह से जानते हैं की विदेशी विधर्मी ताक़तें हमेशा से हम मोमबत्तियों के गौरवशाली उज्जवल इतिहास से जलती और कुढती रही हैं, उनसे हमारी तरक्की और खुशहाली बर्दाश्त नहीं होती है, लिहाज़ा उन्ही पश्चिमी देशों ने आज साजिशन हमारे बीच इस बल्ब को भेज दिया है ताकि हमारी नौजवान पीढियां इस बल्ब के चक्कर में आकर अपना वजूद अपना रौशन माज़ी भुला बैठें और इसके पीछे इस जैसे हो जाएँ,आज हम सबको इस साजिश का मुकाबला करने की ज़रुरत है वरना हमारा अस्तित्व समाप्त हो जायेगा और हमारी आने वाली नस्लें मोमबत्ती होकर रह जाएँगी"
    हॉल में ज़ोरदार तालियाँ बजीं, सारी मोमबत्तियों ने एक सुर में अपनी लौ फडका कर इस बात का अनुमोदन किया,
    इसके बाद कुछेक वक्ताओं ने और अपनी राय रखी, नौजवान संघ के एक छात्रनेता ने खड़े होकर सभी वरिष्ठ मोमबत्तियों को विश्वास दिलाया की युवाओं को बल्ब के प्रभाव में आकर भटकने से रोकना उसकी ज़िम्मेदारी है और वो अपने जिस्म के मोम का आखिरी कतरा तक बहा कर इस कर्तव्य का पालन करेगा,
    व्यापारी संघ की एक नेता मोमबत्ती ने कहा की वो बल्ब की सम्भावित सप्लाई रोकने के लिए बाज़ार को नयी और सजीली आकर्षक भड़काऊ मोमबत्तियों से भर देगा ताकि लोग बल्ब की ज़रूरत ही न महसूस करें,
    शराब बनाने का काम देखने वाली एक मोमबत्ती ने कहा की वोह घर में मोमबत्ती रखने वाले लोगों को कम कीमत पर अच्छी शराब देगा और बल्ब के प्रभाव वाले लोगों को महंगी देगा,
    पत्रकार और बुद्धिजीवी मोमबत्तियों ने बल्ब के खतरों और साजिश के खिलाफ लम्बे लम्बे लेख,ख़बरें और किताबें लिखने का आश्वासन दिया,
    एक लम्बी दाढ़ी और चोगे वाली मोमबत्ती ने कहा की वोह बल्ब के विरुद्ध फतवा जारी करके उसे इस्तेमाल करने वालों को धर्म और बिरादरी से ख़ारिज करवा देगी, नज़दीक बैठी कुछ तिलकधारी , क्रॉसधारक,पगड़ी वाली और वैसी ही तीन चार अजीब अजीब वेशधारी मोमबत्तियों ने भी दाढ़ी चोगे वाली मोमबत्ती के प्रस्ताव का समर्थन किया और खुद भी वैसा ही करने का भरोसा दिलाया,
    सभा अपने तर्ज़ पर चल ही रही थी कि इसी बीच एक मुखबिर मोमबत्ती बीच सभा में दौड़ती हांफती आई और उपस्थित लोगों से कहा की बल्ब अब अपनी हद से आगे बढ़ गया है, उसने अपने पड़ोस में रहने वाली चार मोमबत्तियों को भी बल्ब बना डाला है और अब वो चारों उसके साथ मिल कर चौक में बल्ब के साथ मोमबत्ती संस्कृति के खिलाफ भाषण दे रहे हैं
    यह खबर सुनकर उपस्थित मोमबत्तियों के समुदाय में आक्रोश की लहर दौड़ गयी, सब एक सुर से मार दो-काट दो की सदायें बुलंद करने लगे,मंच पर बैठी नेता मोमबत्तियों ने जनाक्रोश को भांपते हुए तुरंत अपना सुर "बहिष्कार से संहार" की तरफ मोड़ दिया,
    अध्यक्ष का इशारा पाकर एक अत्यंत वरिष्ठ मोमबत्ती ने माइक सम्हालते हुए कहा -"प्यारे भाइयों,अब बात बहुत बढ़ चुकी है,बल्ब ने हमारी सारी आशंकाओं को सही साबित करते हुए अपना असली रंग दिखाना शुरू कर दिया है,यदि अभी के अभी इस बल्ब को सबक नहीं सिखाया गया तो यह हमको और हमारे अस्तित्व को हमारी संस्कृति सहित ज़मीनदोज़ कर डालेगा"
    उधर सारी दाढ़ी चोगे तिलक क्रॉस पगड़ी वाली मोमबत्तियां चीख चीख के बुलंद आवाज़ में बल्ब के विरुद्ध भाषण देने लगीं, कुछ गायकों ने वीर रस की कविताएँ गानी प्रारंभ कर दीं...
    भीड़ पहले से ही आक्रोश में नारे लगा रही थी,इतने में इसी भीड़ में से कुछ युवा मोमबत्तियों ने तलवारें लहरानी शुरू कर दीं, और तेज़ नारेबाजियों के साथ चौक की तरद दौड़ लगा दी, भीड़ भी उनके साथ हो ली,
    चौक पर बल्ब अपने उन चार नए नए बल्ब बने साथियों के साथ मौजूद था और कुछ एक मोमबत्तियों को लेकर बैठा कुछ समझा रहा था-"आप लोग भी इनकी तरह मोमबत्ती से बल्ब बन जाओ, इससे आपकी प्रकाश देने की क्षमता बढ़ेगी,आप अधिक आयु जियोगे और बेहतर जीवन मिलेगा"
    इतने में हजारों मोमबत्तियों की हाहाकारी भीड़ ने उन पर हमला कर दिया,भीड़ आती देख श्रोता मोमबत्तियां तेज़ी से गलियों में भाग कर कहीं गायब हो गयीं,चार नई नयी बल्ब बनी एक्स मोमबत्तियों को भीड़ ने वहीँ मौत के घाट उतार दिया, बल्ब को पकड़ कर मुखिया मोमबत्ती के सामने पेश किया गया,मुखिया ने उसे जेल भेजने का आदेश दे दिया , कुछेक नौजवान मोमबत्तियों ने उसे भी वहीँ मार डालना चाह लेकिन मुखिया मोमबत्ती ने "न्यायिक प्रक्रिया" का हवाला देते हुए उसे अदालत के समक्ष पेश करने को कहा,
    अदालत में वो दाढ़ी,चोगे,क्रॉस,पगड़ी और तिलक वाली सारी मोमबत्तियां जज की कुर्सी पर बैठीं थीं, एक हफ्ते तक मुक़दमा चला,सरे काजियों ने एक सुर में कहा की हमारे महान मोमबत्ती ग्रंथों के नियमों के मुताबिक बल्ब को मृत्युदंड मिलना चाहिए क्यूंकि उसने ने एक नयी व्यवस्था कायम करने की कोशिश की है जो न केवल देश और धर्म के विरुद्ध है बल्कि मोमबत्तियों के महान इश्वर "मशाल" के खिलाफ विद्रोह भी है,
    इसकी सबसे छोटी सजा फांसी ही है,हालाँकि अपराधी के दुस्साहस को देखते हुए यह सज़ा कम है लेकिन हम इससे अधिक सज़ा दे भी नहीं सकते,
    बल्ब ने बड़ी अदालत में गुहार लगाईं,लेकिन वहां भी उसकी सज़ा को बरकरार रखा गया...अंत में फैसला यही हुआ की बल्ब को बीच चौराहे पर जनमानस के सामने फांसी दे दी जाएगी....बल्ब यह सुन कर उदास नहीं हुआ बल्कि मोमबत्तियों की मूर्खता पर हँसता रहा...
    फिर एक अख़बारों में बड़ी बड़ी हेडलाइंस में खबर छपी-"छह माह की न्यायिक प्रक्रिया के बाद राजद्रोही बल्ब को बीच चौराहे पर फांसी"
    सम्पादकीय पन्नों पर बल्ब को मिलने वाली न्यायिक सुविधाओं,बढ़िया वकीलों और जेल में मिलने वाले अच्छे खाने का ज़िक्र करते हुए मोमबत्ती राज्य की दरियादिली और न्यायप्रियता की दिल खोल कर तारीफ की गयी, सालों तक लोग अपने बच्चों को बल्ब के अपराध के किस्से सुनाते रहे,स्कूलों की किताबों में बल्ब को खलनायक लिखा गया, बुद्धिजीवियों/पत्रकारों की कलम बल्ब को राजद्रोही और मुजरिम कहती रहीं....

    ~इमरान~

    emranrizvi.blogspot.com
    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: मोमबत्ती और बल्ब की कहानी Rating: 5 Reviewed By: Emran
    Scroll to Top