728x90 AdSpace


  • Latest

    सोमवार, 23 जुलाई 2018

    अजगरा में है महाभारत के समय का प्राचीन अजगर बाबा मंदिर और यक्ष |

    अजगरा लालगंज प्रतापगढ़ में है महाभारत के समय का प्राचीन अजगर बाबा मंदिर और यक्ष की निशानिया | 
    जौनपुर के ऐतिहासिक और सामाजिक महत्व को अंतर्जाल पे कीवन प्रदान करने के बाद इस बात की आवश्यकता महसूस हुयी की जौनपुर और इसके आस पास के समाज और इतिहास को भी पेश किया जाय जिस से यहां के इतिहास को और अच्छे तरीके से समझा जा सके क्यों की जौनपुर के तार अयोध्या प्रतापगढ़ बिहार और आस पास के इलाक़े से जुड़े हुए हैं |  धार्मिक महत्व की बात करें तो जौनपुर ,अयोध्या और रामचंद्र  जी के वनवास , महृषि दुर्वासा , परशुराम की निशानियों को आज भी अपने आप में संजोये हुए है | 
     https://www.youtube.com/user/payameamn
    जौनपुर आस पास की कड़ी में पटना का मनेर बड़ी दरगाह , प्रतापगढ़ का बेल्हा देवी मंदिर के बाद मैंने रुख किया "अजगरा " का जो प्रतापगढ़ के रानीगंज इलाक़े में स्थित है | यहां पे एक अजगर बाबा का प्राचीन मंदिर है और एक तालाब जहाँ के लिए मान्यता है की अपने सफर के दौरान पांडवों ने एक तालाब में पानी पीया था जिसका मालिक एक यक्ष था | 
     https://www.youtube.com/user/payameamn



    अजगरा प्रतापगढ़ शहर से १९ किमोमीटर की दूरी पे लखनऊ वाराणसी राज मार्ग पे स्थित है | एक पौराणिक कथा के अनुसार इंद्रासन प्राप्त राजा नहुष अगस्त ऋषि के श्राप से शापित होकर अजगर के रूप में परिवर्तित होकर इसी जगह पर गिरे थे जिसकी वजह से इस जगह का नाम अजगरा पड़ा श्राप के अनुसार द्वापर युग के अंतिम समय में वनवासी पांडवों में श्रेष्ठ युधिष्ठिर के दर्शन से उन्हें मोक्ष प्राप्त हुआ। 
     https://www.youtube.com/user/payameamn

     https://www.youtube.com/user/payameamnयहीं पर राजा नहुष का वह विख्यात सरोवर है जिसका जल पीने से चार पांडवों की मृत्यु हो गई थी परंतु सरोवर के किनारे स्थित विशाल वृक्ष पर रहने वाले यक्ष के कठिन प्रश्नों का विवेक पूर्ण उत्तर देकर युधिष्ठिर ने अपने सभी भाइयों का जीवन वापस प्राप्त किया था। यहां पर एक अति प्राचीन वृक्ष का अवशेष निर्झर प्रतापगढ़ी द्वारा खोजा गया और पुरातत्ववेत्ताओं द्वारा उसकी प्राचीनता की गणना करके उसे प्रमाणित कर यहां पर संरक्षित किया गया।  अजगरा रानीगंज का यह स्थल आज विश्व विख्यात है हर साल यहां पर विशाल एवं भव्य मेले का आयोजन किया जाता है जिसमें देश विदेश के कलाकार अपनी सहभागिता प्रस्तुत करते हैं। 

    अजगरा इलाक़े में नागबाबा मंगल गिरी से मुलाक़ात हुयी बहुत सी ज्ञान भरी बातें हुयी | "यक्ष" की बारे में जाना | जैसे आदिकाल में प्रमुख रूप से ये रहस्यमय जातियां थीं। देव,दैत्य,दानव, राक्षस,यक्ष,गंधर्व,अप्सराएं, पिशाच,किन्नर, वानर, रीझ,भल्ल, किरात, नाग आदि। ये सभी मानवों से कुछ अलग थे। इन सभी के पास रहस्यमय ताकत होती थी यक्ष, अप्सरा, किन्नरी आदि की साधना जल्दी पूरी होती है, क्योंकि इनके लोक पृथ्वी से पास हैं।
     https://www.youtube.com/user/payameamn


     Chat With us on whatsapp
     Admin and Founder 
    S.M.Masoom
    Cont:9452060283
    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: अजगरा में है महाभारत के समय का प्राचीन अजगर बाबा मंदिर और यक्ष | Rating: 5 Reviewed By: Hamara Jaunpur Tourism
    Scroll to Top