Sunday, October 19, 2014

लोक संस्कृति पर उपभोक्तावादी संस्कृति के मंडराते खतरे –श्रद्धा

लोक संस्कृति पर उपभोक्तावादी संस्कृति के मंडराते खतरे –श्रद्धा

लोक संस्कृति सभी संस्कृतियों का उत्स है। वस्तुतः लोक संस्कृति में सामाजिक समरसता और जियो और जीने दो का भाव था जबकि आज के समाज पर हावी उपभोक्तावादी संस्कृति में विनाष और केवल अपने लिए सब कुछ समेट लेने का भाव है। लोक संस्कृति जॅंहा प्रकृति के साथ जुड़ाव की संस्कृति थी वहीं उपभोक्तावादी संस्कृति केवल प्रकृति का दोहन करना जानती है। आज जो इतनी सारी विपदाएं हमारे सामने विकराल रूप धारण किये है उसके पीछे भी कहीं न कहीं यह उपभोक्तावादी संस्कृति है जो सिर्फ लेना ही लेना जानती है।
उपभोक्तावादी संस्कृति की वजह से आज हमारे  मूल्यों का ह्रास होता जा रहा है। कमोबेष षहर तो इसके षिकार थे ही किन्तु यह स्थिति गाॅंवों को और भी तेजी के साथ अपनी चपेट में ले रही है। संयुक्त परिवार का विघटन, आपसी क्लेष, द्वेश और ईश्या के चलते ग्रामीणों में भी भाईचारे की भावना खत्म होती जा रही है। नये राजनैतिक हस्तक्षेपों से समाज ज्यादा वर्गाें और धड़ो में बॅंट गया है। राजनैतिक समीकरणों को बैठाने के चक्कर में बाहरी षक्तियां कई बार जानबूझकर इनके बीच द्वेश फैलाती है। बदली हुई राजनैतिक परिस्थतियों में आज वह वर्ग धीरे धीरे हावी होने लगे है, जिन्हें एक समय तक बहुत दबा कर रखा जाता था। षिवमूर्ति का तर्पण, सगीर रहमानी का अषेश, और रामधारी सिंह दिवाकर का उपन्यास अकाल सन्ध्या इस स्थिति को बड़ी बारीकी से स्पश्ट करता है।
उपभोक्तावादी प्रवृत्ति षहरों में बढ़ी है और ग्रामीण निरंतर षहरों की ओर खिंच रहे हैं, निरंतर छोटी हो रही जोतों ओर दिन भर हाड़ तोड़ने के बाद भी अपनी आवष्यक जरूरतों को पूरा न कर पाने वाला ग्रामीण षहरों में मजदूर बनने को विवष है। गाॅंव की खुली हवा में साॅंस लेने वाले लोग षहर की बन्द कोठरियों, सीलन और बदबूदार झोपडि़यों में रहने को मजबूर है।


उपभोक्तावादी संस्कृति पष्चिम की देन है और उपनिवेषवाद के दौर से ही इसकी षुरूआत मानी जा सकती है। औद्योगिक क्रान्ति के साथ साथ उपभोक्तावादी संस्कृति का जन्म आवष्यक हो गया था। उद्योग लगाने के साथ ही मुनाफा कमाने की जद्दोजहद षुरू हो जाती है। विज्ञापन की विधिवत षुरूआत भी औद्योगिक क्रान्ति के बाद ही हुई। विज्ञापन भी उपभोक्तावादी संस्कृति को बढ़ाने वाला ही एक माध्यम है। विज्ञापन के द्वारा लोगो में लालच पैदा किया जाता है , सपने बेचे जाते है। आज गोरा बनाने वाली क्रीमों के जितनें विज्ञापन आते है उनकी वास्तविकता यह है कि वह एक तरह का भ्रम बेच रहे हैं जो लोगों में इस गलत धारणा का निर्माण करती है कि गोरा होना मात्र ही सुंदरता का पर्याय है। इसी तरह सौंदर्य उत्पादों के नाम पर जितनी भी चीजें बेची जा रहीं हैं वह थोड़े समय के लिए कारगर लग सकतीं है पर लंबे समय तक इनका इस्तेमाल आपको घातक रोगों का षिकार बना सकता है। एक बार इन अप्राकृतिक रसायनों का इस्तेमाल करने के बाद जब आप समस्या के निवारण के लिए डाक्टर के पास जाते है तो महगीं दवाईयों का क्रम षुरू हो जाता है और जैसे ही आप इन दवाईयों का इस्तेमाल बंद करते हैं आपकी दषा पहले से भी खराब हो जाती है। यह एक ऐसा चक्र है जिससे आप छुटकारा नहीं पा सकते। बाजारू चकाचैध से प्रभावित होकर आपने एक बार जिस उत्पाद का प्रयोग किया वह आपको जीवन भर अपने उपर निर्भर बना देता है। उपभोक्तावाद लोगों की इसी प्रवृत्ति का फायदा उठाता है।


इस समय बाजार मंे उपलब्ध ‘रेडी टू ईट फूड’ का प्रचलन बढ़ रहा है, पष्चिम की तर्ज पर और सुगम होने के कारण कामकाजी महिलाओं में इसके लोकप्रिय होने की पूरी सम्भावनाएं हैं। लेकिन मा के हाथ के खाने से बच्चों का जो भावनात्मक रिष्ता होता है उसमें इस ‘रेडी टू ईट’ वाली संस्कृति से कहीं न कहीं विचलन जरूर आएगी।
थोड़े में भी खुष रहने वाली जिस लोक संस्कृति को, ज्यादा को भी कम समझने वाली जिस उपभोक्तावादी संस्कृति ने कवस्थापित किया है उसमें लोग भूख मिटाने के लिए नहीे स्वाद बदलने के लिए खाते हैे और तन ढ़कने के लिए नहीं फैषन के लिए कपड़े पहनते हैं। एक वक्त था जब लोग सोचते थे एकमुष्त पैसे क्यों न लग जाय पर चीज टिकाउ होनी चाहिये। पर आज नित नया फैषन आ रहा है और लोग भी रोज कुछ नया चाहते है। इसलिए कुछ तो लोग जानबूझकर ऐसी चीजें खरीदते है जो थोड़े वक्त चलें, और कम्पनियांॅ भी ऐसा माल बनाती है ताकी वह जल्दी खराब हो जाय और लोग बार बार खरीदें। इससे कम्पनियांॅे को आर्थिक लाभ होता है। ‘यूज एण्ड थ्रो’ की यह अवधारणा उपभोक्तावादी संस्कृति  की ही देन है। यह मंत्र आज वस्तुओं के साथ ही नहीं बल्कि लोग आपसी सम्बन्धों के बीच भी इस्तेमाल कर रहें हैं। जिसके कारण एक ऐसे समाज का निर्माण हो रहा है। जिसके कारण एक ऐसे समाज का निर्माण हो रहा है जो दिन ब दिन अविष्वसनीय होता जा रहा है।


इसी वजह से षहरों में आज एकाकीपन बढ़ा है। लोगों की मानसिकता इतनी संकुचित होती जा रही है कि वे अपने आसपास में कश्ट में फंसे व्यक्ति को देखकर कन्नी काट लेते है और सबकुछ जानते बूझते हुए भी अपनी हुए भी अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में व्यस्त रहते हैं इसीलिए हमाारे समाज में भी ऐसी अनहोनी घटनाएं घटने लगी है जिनकी कल्पना भी नहीं की जा सकती। अभी हाल में अखबारों के माध्यम से प्रकाष में आई नोएडा की दो बहनों की कहानी इसी की एक छोटी सी नजीर कही जा सकती है।
लोक संस्कृति को पिछड़ी संस्कृति मानकर भले ही हम उससे मुॅंह फेर लें , मगर इस संस्कृति के फायदे हमें वैसे वैसे पता चलते जाएगंे जैसे जैसे उपभोक्तावादी संस्कृति के नुकसान हमारे सामने आएगें। लोक संस्कृति में समाज का आपके निजी जीवन पर भी नियंत्रण बना रहता था। आपको समाज की एक इकाई के रूप में देखा जाता था। समाज यदि आपके सुख का भागीदार था तो आपके दुख में भी हाथ बंटाता था। यद्यपि इसके लिए हमें कई बार उसके कुछ कठोर नियमों का भी पालन करना पड़ता था। कई बार नृषंसता लोक संस्कृति का अनिवार्य अंग लगने लगती है जैसा कि हाल फिलहाल में आए खाप पंचायत के फैसलों में दिखाई देता है। लेकिन फिर भी एसी घटनाएं कभी कभार ही घटती हैं।


उपभोक्तावादी संस्कृति के भी अपने खतरे हैं । उपभोक्तावादी संस्कृति का एक बड़ा दुश्परिणाम यह हुआ कि आर्थिक अव्यवस्था फैल गई, और आर्थिक मंदी के एक बड़े दौर से विष्व की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं को लगातार जूझना पड़ा। जिसके असर से अब भी कई देष उबर नहीं पाये हैं। कह सकतें हैं कि भारतीय लोक संस्कृति के ही एक तत्व जिसमें उधार पर जीवन जीना बुरा माना जाता है के कारण लोगों ने उस तरह से लोन पर भौतिक सुख सुविधाओं का ताष का महल खड़ा करने की कोषिष नहीं की जैसाकि पष्चिमी देषों में हुआ। पष्चिमी देषों में ज्यादातर लोगों ने बैंक से लोन लेकर गाड़ी इत्यादी भौतिक सुख सुविधाओं की चीजें तो खरीद लीं किन्तु बैंकों के पैसे वापस नहीं किये। ज्यादा कर्ज देने की वजह से बैंकों की अर्थव्यवस्था चरमरा गई और ज्यादातर बैंक सरकारी सहायता मिलने के बावजूद डूबते चले गये। अति किसी भी चीज की अच्छी नहीं होती, उपभोक्तावादी संस्कृति ने जिस तेजी के साथ पाॅंव पसारे थे उसी तेजी के साथ उसका खोखलापन भी सामने आ गया।


भूमण्डलीकरण का दौर जिन सुनहरे ख्वाबों को लेकर आया था उनकी सच्चाई आज हमारे सामने आ चुकी है। भूमण्डलीकरण और विष्वबन्धुत्व के नाम पर विकास की बातें की जा रहीं थीं वह पूरी तरह खोखली साबित हो चुकी हैं। अन्यथा अमेरिका जैसे विकसित देष जो उपभोक्तावादी संस्कृति की नुमाइंदगी करते हैं वे आर्थिक मंदी से पूरी तरह चरमरा न गये होते। अमेरिका एक ऐसा देष है जो किसी चीज का बड़े पैमाने पर उत्पादन नहीं करता, ज्यादातर चीजें आयातित करता है फिर भी सबसे धनवान देष है और सारे विष्व पर अपना प्रभुत्व जमाता है। तत्कालीन अमेरिकी राश्ट्र्पति बराक ओबामा आर्थिक मंदी के बाद वहाॅं की अर्थव्यवस्था को सम्हालने में लगे हैं इसलिए रोज आम जनता को नई नई सलाह देते हैं। उन्हें भारतीय डाक्टर जो कम दाम में ज्यादा काम करते हैं तो अपने देष में मंजूर है मगर अमेरिकी नागरिकों का भारत आकर सस्ता ईलाज करवाना मंजूर नहीं।


वे अमेरिकी नागरिकों केा अमेरिका में ही ईलाज करवाने की सलाह देते हैं ताकि उनके देष का पैसा उनके देष में ही रहे। किन्तु भारत के नागरिकों के द्वारा चुकाए गए कर के पैसों पर डाक्टर, इन्जीनियर बने भारतीय से उन्हें कोई गुरेज नहीं। जबकि आज भी भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में कोसों तक एक अच्छा डाक्टर ढ़ूढ़ने से भी नहीं मिलता। आधे लोग तो डाक्टर के पास पहुॅंच ही नहीं पाते और जो पहुॅंच पाते हैं वे झोला छाप डाक्टरों के षिकार हो जाते हैं। यह हालात गाॅंव के डाक्टरों के नहीं बल्कि भारत की राजधानियों के कुछ अच्छे अस्पतालों के भी हैं। यह कैसा भूमण्डलीकरण है जिसमें एक देष अपनी सहूलियत के अनुसार दूसरे देष का दोहन करने की आजादी पा लेता है। उपभोक्तावादी संस्कृति केवल किसी चीज को पा लेने भर से आपको संतुश्ट नहीं रहने देती बल्कि वह व्यक्ति को इतना लालची बना देती है कि वह बाजार में उपलब्ध प्रत्येक वस्तु की चाहना करने लगता है। जरूरत से ज्यादा इकट्ठा करने की यह प्रवृत्ति व्यक्ति की विचारषीलता को कुंद कर देती है। गांधी जी ने कहा था कि जब भी कोई काम करने चलो, सबसे पहले अपने देष के सबसे गरीब के बारे में सोचो कि इस काम से उसे क्या लाभ होगा! विकासषील  देषों को हाषिए के व्यक्ति का ध्यान रखते हुए विकास करने की सलाह गांधी जी ने बहुत पहले दी थी किन्तु लोग इस मानवता के मंत्र को भूल चुके हैं। जिनके पास क्रयषक्ति है वे विदेषी खिलौनो जैसे लैपटाप, मोबाईल इत्यादि के नए नए माडलों को खरीदने में लगें हैं जबकि उन्हीं के देष में सैकड़ों लोग भुखमरी के षिकार हैं। गजब की बात है कि हमारे नीति निर्माता भी उपभोक्तावादी संस्कृति को बढ़ावा दे रहे हंै। पिछले दस वर्शों में लोगो की क्रयषक्ति बढ़ी है तो लैपटाप, मोबाईल, गाडि़यांॅ सस्ते हुए हैं किन्तु अनाज, सब्जी और खाद्य पदार्थों के दाम उपर जा रहे है। क्या हमारी न्यूनतम आवष्यकताएं लैपटाप, मोबाईल और गाडि़यांॅ हैं!
 
इलेक्ट्र्ानिक उत्पादों का आयात बढ़ा है जबकि हमारी कृशि उत्पादन क्षमता हमारी जनसंख्या के अनुपात में नहीं बढ़ी। कृशि भूमि पर कंक्रीट के जंगल खड़े किये जा रहे हैं। वनों का दोहन हो रहा है, भू-संसाधनों जैसे कोयला, पानी सभी का तेजी से क्षय हो रहा है। ऐसा लग रहा है मानो सबकुछ को हड़प लेने की बाॅंट जोह रहे हमारे चंद उद्योगपति पृथ्वी का सारा रस निचोड़ लेना चाहते हैं। बाद की पीढि़यों के लिए क्या रह जाएगा इसकी चिंता किसी को नहीं।


आज हमारे देष में आतंकवाद से भी बड़ी चुनौती नक्सलवाद के रूप में सामने खड़ी नजर आ रही है तो उसके पीछे यही सब कारण है। संजीव के उपन्यासों जैसे जंगल जॅंहा षुरू होता है, धार, सावधान नीचे आग है, छत्तीसगढ़ और झारखण्ड की पृश्ठभूमि पर इन्हीं समस्याओं को उठाने वाले उपन्यास है।

उपभोक्तावादी संस्कृति का सबसे ज्यादा खामियाजा समाज के सबसे निचले तबके को झेलना पड़ता है। आदिवासी हमारे समाज के सबसे अधिक हाषिए पर हैं। सरकार उनके विकास के लिए कोई ठोस कदम नहीें उठाती इसके विपरीत उनके प्राकृतिक संसाधनों जंगल और पानी पर भी कब्जा करती जा रही है और इन पर कब्जाकर बहुराश्ट््रीय कम्पनीयों को सस्ते दामों पर बेचती जा रही हैं। ये बहुराश्ट््रीय कम्पनियाॅ आदिवासियों को मजदूर बनाकर परोक्ष रूप से इन पर षासन करना चाहती हैं। यह स्वतंत्र भारत के भीतर उपनिवेषवाद के ही एक दूसरे स्वरूप के पनपने जैसा है। अपने ही संसाधनों पर इन आदिवासी लोगों का अधिकार समाप्त कर दिया जाना सरकारी तंत्र द्वारा इनके षोशण का साक्षात प्रमाण है। राकेष कुमार सिंह के उपन्यास पठार पर कोहरा और जहाॅ खिले हैं रक्तपलाष ऐसे ही आदिवासी बहुल इलाकों की बात करते हंै। ऐसे में जब इन आदिवासी जातियों के सामने जीने और खाने के प्रष्न महत्वपूर्ण होते जा रहे हों, उनकी अपनी संस्कृति के समाप्त होने के पूरे आसार बन चुके हों और उन्हें एक अप्राकृतिक स्थिति में जबरदस्ती ढकेला जा रहा हो तो उनका षासन के खिलाफ बन्दूक उठाना स्वाभाविक सा लगने लगता है। मगर बन्दूक से किसी बात का हल नहीं निकल सकता यह तथ्य भी उतना प्रामाणिक है इसलिए आदिवासियों की समस्या को सुना जाना चाहिए और सरकार को उनके हितों का ध्यान रखना चाहिए।

भारत एक लोकतंत्र है जिसमें लोक का महत्व सबसे अधिक होना चाहिए लोक की संस्कृति को कायम रखने से ही हमारी स्वाभाविक प्रगति हो सकती है। किसी थोपी हुई उपभोक्तावादी संस्कृति से केवल विनाष और आपसी विद्वेश ही फैलेगा। आज जरूरत इस बात की है कि अन्धाधुन्ध आधुनिकता की दौर में षामिल होने के लिए अपनी सांस्कृतिक मूल्यों की अनदेखी न की जाय बल्कि उन मूल्यों की रक्षा करते हुए आगे बढ़ने के प्रयास किए जायं।












विजयदशमी के बाद लगता है शाहगंज का ऐतिहासिक चूड़ी मेला |


कल शाहगंज के ऐतिहासिक चूड़ी मेले में महिलाओं की काफी भीड़ उमड़ी जहां उन लोगों द्वारा जमकर खरीददारी की गयी। इस बाबत जहां अच्छे-अच्छे दुकान लगे थे और तरह तरह की मनभावन चूड़ियों की भरमार थी इसीलिये इस वर्ष भरी भीड़ इस मेले में आये ,वहीं उमड़ी भारी भीड़ द्वारा की गयी खरीददारी से दुकानदार भी खुश नजर आये।


स्थानीय नगर के चूड़ी मोहल्ला में लगने वाले इस ऐतिहासिक मेले की मान्यता है कि विजयदशमी के बाद मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम के राज्याभिषेक के बाद माता सीता़ अयोध्या के श्रृंगार हाट के लिये निकलीं जहां उन्होंने अपनी सहेलियों के साथ खरीददारी कीं। इसी मान्यता के मद्देनजर अयोध्या रूपी शाहगंज में श्री रामलीला समिति व चूड़ी मोहल्लावासियों के सहयोग से यह मेला आयोजित होता है। इसकी एक खास बात यह है कि मेले में पुरूषों का प्रवेश पूरी तरह से प्रतिबंधित है। मेले के मद्देनजर दोनों छोर पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किये गये थे जहां महिला पुलिस की भी ड्यूटी लगायी गयी थी। देखा गया कि मेले में स्थानीय दुकानदारों के अलावा गैरजनपद के लोग दुकान लगाये थे जिन्होंने आकर्षक चूडि़यों को सजाया था। वहीं नगर की तमाम महिलाओं सहित दूर-दराज से आये लोगों ने भी जमकर खरीददारी किया।

Friday, October 17, 2014

यह परदेसियों के घर वापस लौटने का बखत है।---दीपावली पे कुछ ख़ास डॉ पवन विजय

अगहनी अरहर फूली है। पीली पंखुड़ियों की संगत नम खेतों में पके धान खूब दे रहे हैं।
अरहर के फूलो पे उतरी /कार्तिक की पियराई सांझ ।

लौटे वंशी के स्वर /बन की गंध समेटे /सिंदूरी बादल से /चम्पई हुयी दिशाएं
हलधर के हल पर उतरी /थकी हुयी मटमैली सांझ।

बजड़ी, तिल, पटसन और पेड़ी वाली ऊख के खेतों को देख कर करेजा जुड़ा जाता है। पोखर की तली में बुलबुले छोड़ते शैवालों जैसे हम बच्चों के मन में भी खुशियों के बुलबुले उठते है आखिर दीवाली का त्यौहार जो आने वाला है। बँसवारी के उस पार बड़े ताल में डूबता सूरज धीरे धीरे पूरे गाँव को सोने में सान देता है।

आलू की बुवाई की तैयारियां चल रही हैं। भईया मिट्टी और पसीने से सने हेंगा घेर्राते हुये बैलों के साथ आते दिखाई देते हैं। मैं दौड़ कर उनके हाथ से 'पिटना' ले लेता हूँ। कई दिनों से मेरा बल्ला सिरी लोहार के यहाँ बन रहा है तब तक क्रिकेट खेलने के लिए उस 'पिटने' से ही काम चला रहा हूँ। पीछे पीछे छटंका और झोन्नर कहार भी आ रहे है। झोन्नर हल चलाते हैं और छटंका हराई में दाना बोती जाती हैं। अम्मा जल्दी से उनके लिए मीठा पानी की व्यवस्था करती हैं।

झोन्नर गुणा भाग करते है 'इस बार दिवाली में पीपल वाले बरम बाबा को सिद्ध करूँगा।' छटंका चुटकी काटती है 'उस बरम को मऊवाली तेली के दूकान में भेज देना बरम दूकान की रक्सा करेगा ई सारे बलॉक वाले उसका पईसा खा जाते हैं।' फिर दोनों हो हो हो कर हँसते है। तभी बड़के बाबू इनारा से आते हैं नऊछी से हाथ पोंछते बोले " का हो राजू सबेरे जल्दी उठि जाया अन्तरदेसी में भइकरा भोरहरे पहुंचे के लिखे रहेन।" भईया सिर हिला देते हैं।

कालि बाबू अईहै ना? हम अम्मा से पूछते हैं। अम्मा हमें कोरां में लेकर माथा चूम लेती हैं।
यह परदेसियों के घर वापस लौटने का बखत है।

फूटी मन में फुलझड़िया पूरण होगी आस,
परदेसी पिऊ आ गए गोरी छुए अकास।

भुतही कहानियों के बीच छिपा एक इतिहास (एपार जौनपुर -ओपार जौनपुर )

बचपन से ,जौनपुर जाते -आते एक वीरान इमारत को देखता-समझने की कोशिश करता लेकिन बात भूतों -प्रेतों पर आकर टिक जाती. सन १३६१ इस्वी के बाद जौनपुर में शर्की वंश के राज काल में बनी इमारतों में "बारादुअरिया " भी है लेकिन इतिहास के पन्नो में वास्तुकला के इस धरोहर को क्यों स्थान नहीं मिला मुझे समझ में नहीं आ रहा.जौनपुर -लखनऊ राज मार्ग पर जौनपुर शहर के पूरब सड़क से लगभग ३०० मीटर पर यह " बारादुअरिया " स्थित है. कहते हैं यह राजवंश की रानियों का स्नानागार था या फिर सदानीरा गोमती से सटा होने के कारण रनिवास की रानियाँ यहाँ प्राकृतिक छटा का अवलोकन करने आती थी .जो भी हो लेकिन आश्चर्य है कि जौनपुर के इतिहास लेखन में भी इस पर कोई ध्यान नहीं दिया गया।

दन्त कथाओं में कहा जाता है कि इस भवन के अन्दर बीचो -बीच एक बहुत गहरा कुआँ हुआ करता था और भवन के गुम्बज के बीचो-बीच सोनें का एक घंटा बंधा था, जिसे निकालने के चक्कर में एक चोर मगरगोह की मदत से घंटे तक पहुच गया था लेकिन घंट का वजन मगर गोह नहीं सभाल सका और घंट समेत कुएं में जा गिरा था,कुएंको इसके बाद समाप्त कर दिया गया। इस भवन में नाप-जोख कर कुल बारह दरवाजे हैं शायद इसीलिये इसे बारादुअरिया कहा गया.दंतकथाओं में भूत-प्रेतों से जुडी इतनी कहानियाँ इस कारण लोग इस तरफ आनें से कतराते रहे ,यहाँ अब केवल सांपो और मगर गोह का ही राज है। इस बारे में फिर कभी विस्तृत रपट प्रस्तुत करूंगा अभी तो इसके ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य का अध्ययन मैंने शुरू ही किया है.जो भी हो लेकिन वास्तु कला का बेजोड़ नमूना यह भी है जिसका अवलोकन आप चित्रों में भी कर सकते हैं- '


(सभी चित्र -जावेद अहमद )

जौ भरि जाई कुठिला अंगनवा ना ??


 
खेती -किसानी से जुड़े लोग ,मौसम का हर दिन बदलता हाल देख हैरान हैं .उनके सपने -उनकी आशा सब कुछ फसल ही तो है.अच्छी फसल मतलब साल भर सुकून का जीवन नहीं तो फिर---कहाँ जायेंगे किससे मांगेंगे.माई की दवाई ,बच्चो की पढाई,बिटिया का विवाह,साल भर का रिश्तेदारी और छोटे-मोटे खर्च,कौन देगा ....?उनके लिए कोई वेतनमान तो फिक्स है नहीं .उनका वेतनमान बढ़ाने वाली प्रकृति तो उनसे रूठती जा रही है ,अच्छी फसल ही तो उनका प्रोन्नत वेतनमान है ,फसल चौपट तो बिना अग्रिम पगार के बाहर. इस बार सरसों की फसल पूरे पूर्वांचल में गजब की है...... 

पर मौसम के करवट से किसानों के माथे पर बल पड़ गये हैं पता नहीं सुरक्षित घर के अंदर पायेगी .अरहर की दाल की समस्या को देखते इस बार किसानों नें व्यापक तौर पर अच्छे क्षेत्रफल में अरहर की बुआई की थी मौसम बार-बार ऐसा ठंडा-गर्म हुआ कि दो बार अरहर के फूल आकर झड़ गये ,अब तीसरी बार फिर रहे हैं , लेकिन मौसम गर्म हो रहा है ऐसे में फली और उसके अंदर के दानों का सूख जाने का डर है ,अच्छी फसल की उम्मीद खत्म हो रही है, लगता है अभी दाल गरीबों के लिए इस वर्ष भी सपना ही रहेगी.यही हाल गेहूं का भी है- बार -बार बढ़ जा रहे तापमान से इसके उत्पादन में निश्चित फर्क पड़ेगा


आज सुबह सबेरे खेत में आये हुए हमारे गांव के सफल किसान राकेश तिवारी अवधी के एक पुरानें लोकगीत को जोरदार आवाज दे रहे हैं --गेहुआं की बलिया में मोतिया के दनवा,कतौ घुन-घुनवा बजाय रहे चनवा ,खेतवा के मेड़वा पे बिहसे किसनवा ,धरती हमार उगलत अहै सोनवा ,गंगा माई तोहरा करब दर्शनवाँ,जौ भरि जाई कुठिला अंगनवा ना ...
.......
अब इनको कौन समझाये कि अपनी गंगा माई का हाल भी अब बेहाल हो चला है ,किसानों की तरह ही .......तो आप भी अपना आशीर्वाद दीजिये और ऊपर वाले से दुआ कीजिये कि इस साल -सालों साल ,किसानों की झोली भरी रहे ........आमीन...

Thursday, October 16, 2014

साहित्यकार ,पत्रकार और राजनेताओं को सोशल मीडिया के इस्तेमाल की जानकारी आवश्यक |

विश्व भर में अपनी बात लोगों तक पहुंचाने के लिए आज सोशल मीडिया  का इस्तेमाल हर छेत्र में किया जा रहा है | कोई भी साहित्यकार ,पत्रकार या  राजनेता हो कामयाब तभी कहलाता है जब वो अपनी आवाज़ अपनी बात अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचा सके |  जब ये प्रतिभाशाली लोग अधिक लोगों से जुडेंगे तब कहीं जा के समाज का भला होगा |

एक मय था जब साहित्यकार, कवी किताबें लिखते थे और अख़बारों के दफ्तरों के चक्कर मारा करते थे, धन की कमी की वजह से उसे किताबी शक्ल दे के लोगों तक पहुंचा नहीं सकते थे लेकिन आज समय बदल चूका है कम पैसों में आप कवितायेँ , कहानियां , लेख पूरी दुनिया तक खुद ब्लॉग पे डाल के पहुंचा सकते हैं |

इसी प्रकार आज अपनी बात लोगों तक पहुंचाने का नेताओं के हाथ में फेसबुक और ट्विटर जैसा हथियार हाथ में आ चूका है जो उन्हें पूरे दिन अपनी बात लोगों तक पहुंचाने का सुनहरा अवसर  प्रदान कियें हुए है | पत्रकार भी आ सोशल मीडिया के उपयोग से अपनी वेबसाईट बना के बिना किसी के दबाव के इमानदारी से खबरें लोगों तक पहुंचा सकते हैं और साथ में विज्ञापनों से धन भी उस से अधिक कम सकते हैं जितना उन्हें कोई मीडिया वाला प्लेटफ़ॉर्म  दिया करता है |

तो क्यूँ न इस अवसर का लाभ उठाया जाए और अपनी बात, अपने लेख, कविताएँ , वादे इरादे पूरी दुनिया तक एक क्लिक में पहुँचाया जाए ?
आशा है जौनपुर में भी इसकी उपयोगिता पे  लोगों को जागरूक किया जाएगा ।किसी प्रकार के सहयोग और जानकारी के लिए संचालक एस एम मासूम से संपर्क कर सकते है|

हमारा जौनपुर और जौनपुर सिटी के कुछ सोशल मीडिया लिंक जिनसे आप भी जुड़ के इसका अफ्यदा उठा सकते हैं |





हमारा जौनपुर का आधिकारिक फेसबुक पेज 

https://www.facebook.com/jaunpurshahar

जौनपुर अज़ादारी का फेसबुक पेज 

https://www.facebook.com/jaunpurazaadari

 हमारा जौनपुर का यू ट्यूब पेज

https://www.youtube.com/user/payameamn

ट्विटर प्रोफाइल 

https://twitter.com/smma59

जौनपुर बाजार का फेसबुक पेज 

https://www.facebook.com/jaunpurbazaar

संचालक और संपादक
एस एम् मासूम

महिलाओं की इज्ज़त अब धार्मिक स्थल, स्कूल और मैदान कहीं नहीं महफूज़ |

वैसे तो हर दिन कहीं न कहीं से महिलाओं के साथ दुष्कर्म , बलात्कार की खबरें अवश्य आया करती हैं लेकिन आज जब ख़बरों पे नज़र पड़ी तो मैं सोंचने पे मजबूर हो गया की क्या सड़कों, बाज़ारों की तरह अब धार्मिक स्थल, स्कूल भी महिलाओं के लिए नहीं रहे सुरछित ?

ज़रा इस सप्ताह की  ख़बरों पे ध्यान दीजेगा जो कुछ ऐसी हैं :-

१) जौनपुर। केराकत थाना  क्षेत्र के एक गांव में शौच के लिए रात में निकली युवती के साथ पड़ोसी गांव के युवक ने दुष्कर्म किया। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।

२) वाराणसी। श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के प्रांगड़ में स्थित माता अन्नपूर्णा के मंदिर के पुजारी गणपति झा पर महिला के साथ गर्भ गृह के पास छेड़खानी करने का आरोप लगा है। यह पूरी घटना सीसीटीवी कैमरे में रिकार्ड हो गई है। इस घटना को संज्ञान में लेकर मुख्य कार्य पालक अधिकारी श्री काशी विश्वनाथ मंदिर अजय कुमार अवस्थी ने चौक थाने में तहरीर दी है। इसपर तत्काल कार्रवाई करते हुए पुलिस ने गणपति झा के ऊपर 354A के तहत मुकदमा दर्ज कर हिरासत में ले लिया और उससे पूछताछ कर रही है।

३) भदोही। गोपीगंज इलाके में एक नाबालिग नौ वर्षीय छात्रा ने अपने स्कूल के प्रिंसिपल पर अश्‍लील हरकत और रेप का प्रयास किए जाने का आरोप लगाया है। दिन पहले भदोही के एक सरकारी स्कूल के प्रिंसि‍पल ने गुरु और शिष्‍य के बीच सभी मर्यादाओं को तार-तार कर दिया है। बीते मंगलवार को नाबालिग छात्रा अपने स्‍कूल पढ़ने के लिए गई हुई थी। बरसात होने के कारण इस दिन बहुत कम ही छात्र और शिक्षक स्‍कूल आए हुए थे। इसी मौके का फायदा उठाते हुए प्रिंसि‍पल दुर्गेश मिश्रा ने पीड़ित छात्रा को अपने कमरे में बुलाया और उसके साथ अश्लील हरकत करते हुए जबरन उसके कपड़े तक उतार दिए। ऐसा किए जाने से छात्रा रोने और चिल्‍लाने लगी। परिजनों ने पुलिस थाने पहुंचकर रेप के प्रयास की शिकायत दर्ज कराई। इसके अलावा परिजनों ने शिक्षा विभाग से भी शिकायत की है।

४) जौनपुर। मडियाहूं तहसील के एक थाना क्षेत्र की बीएससी की एक छात्रा को अगवा करके रेप करने का सनसनी खेज मामला प्रकाश में आया है। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है और छात्रा को मेडिकल चेकअप के लिए जिला अस्पताल भेजा है।


जौनपुर पर्यटन

चर्चित लेख

Gadgets By Spice Up Your Blog