Monday, September 15, 2014

फेसबुक के आशिकों होशियार |

ये लगता सच है लेकिन हैं नहीं |
आज का युग सोशल मीडिया का युग है जहां लोग फेसबुक ,ट्विटर इत्यादि के उपयोग से अपने सप्रक बनाया करते हैं | फेसबुक ,ट्विटर एक खुला प्लेटफ़ॉर्म है जहां हर तरह के लोग अपना प्रोफाइल बनाए बैठे हैं जिनमे केवल सही नाम वाले होंगे ये मान के चलना बेवकूफी ही कही जायेगी | ना जाने कितने अनामी बेनामी प्रोफाइल लोगों ने बना रखें होंगे जिनकी पहचान करना आसान नहीं |

ऐसे में यह आवश्यकहुआ करता है कि जब भी आप नए दोस्त बनाएं या कोई रिक्वेस्ट आये तो उसकी जांच अवश्य कर लें और अगर ना भी कर सकें तो उसपे अधिक विश्वास ना करें | महिलाओं के लिए तो ख़ास तौर पे इन सोशल मीडिया का इस्तेमाल संभल के करना चाहिए |
जौनपुर जैसे छोटे शहरों में जहां सोशल मीडिया के बारे में जागरूकता की कमी है इसका इस्तेमाल धड़ल्ले से हर आयु के मिलाएं, पुरुष और नौजवान करते नज़र आते हैं | उन्हें चाहिए की इसके इस्तेमाल से पहले सावधानियो के बारे बारे में अवश्य जान लें |

कल एक खबर आज तक में पढ़ी कि रांची में फेसबुक के जरिए अमीर घरों के लड़कों को फांस कर ब्लैकमेलिंग करने का मामला सामने आया है|

पुलिस ने सदर थाना क्षेत्र के बरियातू इलाके में एक ऐसे सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ किया है, जिसमें शामिल लड़कियां फेसबुक पर अपना ग्लैमरस प्रोफाइल बनाती हैं और अमीरजादों को अपने चंगुल में फांसने का काम करती हैं. सेक्स के नाम पर उनसे मुंहमांगी रकम वसूला जाता है और अगर कोई पैसे देने में आनाकानी करे तो दर्ज हो जाता है रेप का केस |

 इसके इस्तेमाल से पहले ये अवश्य समझ लें की ये आभासी दुनिया है यहाँ जो दिखता है वो हकीकत में हो ये आवश्यक नहीं |

लेखक - एस एम् मासूम --संपादक और संचालक हमारा जौनपुर और जौंपुर्सिटी डॉट इन

Sunday, September 14, 2014

एनटीपीसी का लगेगा प्रोजेक्ट और बढेंगे रोज़गार के अवसर जौनपुर में |


जौनपुर। जनपद के विकास खण्ड बरसठी के दक्षिणी छोर पर स्थित कूसा पुल के पास वरूणा नदी के तट पर एनटीपीसी अपना प्रोजेक्ट लगाने के लिये भूमि के चयन हेतु रविवार से अपना सर्वे का कार्य शुरू कर दिया। इसी संदर्भ में आरके ग्रुप के डायरेक्टर राहुल बिन्द ने मौके पर जुटे ग्रामीणों को जानकारी दिया। इस मौके पर मौजूद पत्रकारों को श्री बिन्द ने बताया कि मडि़याहूं व भदोही के किसान भूमि देने को तैयार हुये तो फरवरी 2015 से जमीन अधिग्रहण की औपचारिकता पूरी कर प्रोजेक्ट बनाने का कार्य शुरू कर दिया जायेगा जिससे 2022 तक 330 गुणे 2 मेगावाट बिजली का उत्पादन शुरू हो जायेगा। भूमि अधिग्रहण सम्बन्धी शर्तों के बारे में पूछने पर परियोजना निदेशक ने बताया कि जिन किसानों की जमीन अधिग्रहित की जायेंगी, उन्हें सरकारी दर से 20 गुना ज्यादा कीमत तथा अगले 20 वर्ष तक उनके खेत की उपज का उचित कीमत अदा की जायेगी। इतना ही नहीं, प्रति परिवार से योग्यता के आधार पर एक व्यक्ति को नौकरी भी दी जायेगी।


एनटीपीसी के इस परियोजना में 56 प्रतिशत आरके ग्रुप थर्मल पावर प्रोजेक्ट का 40 प्रतिशत और बीसी तिवारी का 4 प्रतिशत शेयर वाली इस कम्पनी ने कोल थर्मल पावर लगाने के लिये कूसा गांव व भदोही के वरूणा नदी के बीचों-बीच दो किमी वर्गाकार जमीन मंे प्रोजेक्ट लगायेगी। कम्पनी के डायरेक्टर ने बताया कि यह प्रोजेक्ट कोयले से बिजली बनायेंगी और यहां प्रोजेक्ट लगने से दोनों जनपदों के लोगों को रोजगार मिलेगा। यदि किसी तरह की वैधानिक अड़ंगेबाजी प्रोजेक्ट में बाधा नहीं बनी तो आने वाले दिनों में मडि़याहूं तहसील के नाम बहुत बड़ी उपलब्धि होगी तथा क्षेत्रीय लोगों को सुचारू रूप से बिजली भी मिलना सुनिश्चित होगा। परियोजना निदेशक आरके बिन्द ने बताया कि इस प्रोजेक्ट का नाम एनटीपीसी मडि़याहूं के नाम होगा तथा कम्पनी का मुख्य द्वार दो जिलों की सीमा होने के बावजूद मडि़याहूं तहसील में ही होगा।

Saturday, September 13, 2014

कुलाधिपति एवं राज्यपाल उत्तर प्रदेश श्री रामनाईक जौनपुर आये |


जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के संगोष्ठी भवन में विश्वविद्यालय के कुलाधिपति एवं राज्यपाल उत्तर प्रदेश श्री रामनाईक ने विश्वविद्यालय परिसर में नवप्रवेशित विद्यार्थियों एवं शिक्षकों को सम्बोधित किया।
कुलाधिपति श्री रामनाईक ने कहा कि स्वराज को सुराज में बदलने के लिए शिक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका है। इसके लिए शिक्षक, विद्यार्थी को चिंतन करना होगा कि वह शिक्षा की गुणवत्ता में कैसे सुधार लाए। उन्होंने कहा कि आज विद्यार्थी का जीवन कड़ी स्पर्धा का है, इसलिए ऐसी शिक्षा अर्जित करें जिससे लक्ष्य की प्राप्ति हो सके। उन्होंने एक श्लोक के माध्यम से विद्यार्थियों को दीक्षित करते हुए कहा कि क्षण-क्षण, कण-कण से आप विद्या और धन अर्जित कर सकते है, जिसने समय बर्बाद किया उसे यह दोनों नहीं मिलती। उन्होंने कहा कि ऐसी विद्या अर्जित करो जिससे आप सदा अग्रणी रहो। विद्यार्थी का कर्तव्य घर, परिवार, समाज, गांव से लेकर देश सेवा तक है। अगर विद्यार्थी इन दायित्वों को पूरा कर लें तो अवश्य ही देश में अच्छे दिन आ सकते हैं और शिक्षकों का भी कर्तव्य हैं कि विद्यार्थियों के अंदर शिक्षा ग्रहण करने का भाव जागृत करें।


    उन्होंने कहा कि मैं प्रदेश के विश्वविद्यालयों और शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा हूं। इसके लिए सभी विश्वविद्यालयों में जाकर वहां कुलपति, शिक्षक और विद्यार्थियों से बातचीत करके सुझाव मांग रहा हूं। स्वामी विवेकानन्द के शिकागो उद्बोधन की याद दिलाते हुए उन्होंने वसुधैव कुटुम्बकम् की सम्पूर्ण व्याख्या विद्यार्थियों एवं शिक्षकों के समक्ष की। उन्होंने कहा कि यहां के विद्यार्थियों को इस बात पर गर्व होना चाहिए कि हम ऐसे आदर्श वाले देश के निवासी हैं। ऐसे में विद्यार्थियों को सोकर नहीं जागकर देखने वाले सपने को लक्ष्य बनाकर सफलता अर्जित की जा सकती है। नींद के सपने भूल जाते है और जागकर देखने वाले सपने को लक्ष्य बनाकर सफलता अर्जित की जा सकती है।



    कुलपति प्रो. पीयूष रंजन अग्रवाल ने अपने स्वागत भाषण में कहा कि विद्यार्थी देश की सर्वोच्च नैसर्गिक संपत्ति हंैं। प्रतिस्पर्धा के युग में, शिखर की ओर अग्रसर होने के लिए उन्हें अनेक कसौटियों से गुजरना होता है। अभी आप उस कच्ची मिट्टी के समान हैं जिसे अध्यापकांे द्वारा आकार दिया जाना है एवं परिपक्व बनाया जाना है ताकि आप समाजोपयोगी एवं देशोपयोगी बनें और जिसका आधार है आपकी पूर्ण शिक्षा। आज जिस दहलीज पर हैं आपको संयमित एवं अनुशासित रहकर ज्ञानार्जन करना है। सर्वोच्चता पर पहुंचने के लिए, निरंतर प्रयास करना आवश्यक है। तपा हुआ सोना और प्रयत्नशील विद्यार्थी ही सुदपयोगी सिद्ध होता है। इसी प्रकार कौशल-निपुण एवं सेवाभावी विद्यार्थियों का निर्माण किया जा सकता है। फलतः यही विद्यार्थी राष्ट्रीय एवं सामाजिक आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु अपना योगदान देकर सकारात्मक भूमिका का निर्वाह करने में सक्षम बन पाते हैं।

इसी क्रम में अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो. बी.बी. तिवारी ने कहा कि आज का दिन विश्वविद्यालय के लिए एक ऐतिहासिक महत्व का दिन है कि माननीय कुलाधिपति द्वारा नवप्रवेशित विद्यार्थियों एवं शिक्षकों को प्रथम बार आशीर्वचन एवं सम्बोधन दिया गया। उन्होंने विश्वविद्यालय परिसर के शैक्षणिक परिवेश की रूपरेखा प्रस्तुत की।
इसके पूर्व कुलाधिपति द्वारा विश्वविद्यालय परिसर स्थित महात्मा गांधी एवं वीर बहादुर सिंह की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया। राष्ट्रगान एवं विश्वविद्यालय के कुलगीत से प्रारम्भ होने वाले कार्यक्रम की शुरूआत मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलन करके की गयी। सम्बोधन समारोह में प्रमुख सचिव राज्यपाल सुश्री जूथिका पाटणकर मंचस्थ रही। अंत में कुलपति ने कुलाधिपति को स्मृति चिन्ह एवं अंगवस्त्रम् देकर सम्मानित किया।

 इस अवसर पर मंडलायुक्त, डीआईजी, डीएम, एसपी, वित्त अधिकारी अमरचंद्र, कार्यपरिषद एवं विद्या परिषद के सदस्यगण, डा. लालजी त्रिपाठी, डा. शिवशंकर सिंह, डा. अखिलेश सिंह, डा. बजरंग त्रिपाठी, प्रो. रामजी लाल, प्रो. वीके सिंह, प्रो. एके श्रीवास्तव, डा. मानस पांडेय, डा. अजय प्रताप सिंह, डा. मनोज मिश्र,, डा. एच.स.ी पुरोहित, डा. वंदना राय, डा. प्रदीप कुमार, डा. अविनाश पाथर्डिकर, संगीता साहू, डा. रामनारायण, डा. एसके सिन्हा, डा. दिग्विजय सिंह, डा. अवध बिहारी सहित विश्वविद्यालय परिसर के शिक्षकगण एवं विद्यार्थी उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन कुलसचिव वी.के. पांडेय ने किया।अंत में धन्यवाद ज्ञापन प्रो. डी.डी. दुबे ने किया।
सम्बोधन समारोह के पश्चात कुलाधिपति रामनाईक कुलपति सभाकक्ष में विश्वविद्यालय के शिक्षकों से रूबरू हुए एवं उच्च शिक्षा के विभिन्न आयामों पर चर्चा की।

सेंट पैक्ट्रिक स्कूल बस हादसा चिंता का विषय |


अभी दो दिन पहले जौनपुर लाईनबाजार थाना क्षेत्र के पचहटिया के पास सेंट पैक्ट्रिक स्कूल की बच्चों से भरी बस पलट गयी जिसमे ख़बरों के अनुसार बहुत से बच्चे घायल हुए औरकुछ की हालत गंभीरहै | घायल 40 बच्चों में से पांच की हालत खराब को देखते हुए परिवार वालों ने जिला अस्पताल से रेफर कराकर प्राईट अस्पताल ले गये है जिसमें दो बच्चों के माता पिता वाराणसी ले जाकर इलाज करा रहे है। गम्भीर रूप से घायलों में टीडी कालेज के चैकी प्रभारी विकास पाण्डेय का पुत्र आर्दश पाण्डे का हाथ की टूट गया है और सिर में गम्भीर चोट आयी है पूर्व सांसद धनंजय सिंह के करीबी नवीन सिंह का 9 वर्षिय पुत्र आदित्य सिंह को कई जगह गम्भीर चोट आयी है। इनके अलावा अन्नया 12 वर्ष उत्कर्ष श्रीवास्तव और श्रद्वा जयसवाल की हालत को गम्भीर देखते हुए उनके अभिभावनक वाराणसी ले जाकर अलग अस्पतालों में इलाज करा रहे है।



करीब दो बजे सेट पैक्ट्रिक स्कूल की छुट्टी होने के बाद स्कूल की बस यूपी 62 टी 1069  करीब चालिस बच्चों को घर पहुंचाने के लिए निकली थी अभी वह चंद्र कदम ही चल पायी थी कि सिपाह रेलवे क्रासिंग के पास ओवर टेक करने के चक्कर में अनियंत्रित होकर गहरे खाई में जा गिरी। बस खाई में पलटने से बच्चों की चिख पुकार पूरे इलाके में सुनाई देने लगी। आनन फानन में स्थानीय नागरिक राहगीर और स्कूल प्रशासन के लोग बच्चों को बाहर निकालकर जिला अस्पताल पहुंचाया।


 बस हादसे के बाद घटनास्थल पर पहुंचे अभिभावकों में स्कूल प्रबंधन के खिलाफ जमकर उबाल दिखा। उनका आरोप था कि शासन के सख्त निर्देश व शिकायत के बाद भी मानक के अनुसार वाहनों का संचालन नहीं किया जा रहा है।कमिश्नर के आदेश पर जिलाधिकारी ने विद्यालय संचालकों की बैठक कर मानक के अनुसार वाहनों के संचालन का निर्देश दिया था। हिदायत दी थी कि यदि लापरवाही बरती गई तो अभियान चलाकर दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। शासन के निर्देश व जिला प्रशासन के हिदायत को दरकिनार कर डग्गामार वाहनों का संचालन निर्बाध जारी है। एक पखवारे पूर्व अभिभावकों ने भी सेंट पैट्रिक स्कूल के सामने प्रदर्शन किया था लेकिन सुधार नहीं हुआ।


शनिवार को हुई घटना की सूचना पर पहुंचे सैकड़ों अभिभावकों का कहना था कि बस में क्षमता से अधिक बच्चों को बैठाया गया था। प्राथमिक उपचार, सीट बेल्ट, हैंडरेस्ट सीट, जाली, यातायात नियमों के विशेषज्ञ को कौन कहे चालक- खलासी भी घटना के बाद पलायन कर गए।अभिभावकों में इस बात को लेकर आक्रोश है कि जिले की अधिकांश स्कूली वाहनों के संचालन में मानक की अनदेखी की जा रही है। सख्त आदेश के बाद भी जिम्मेदार अधिकारी कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं।




Tuesday, September 9, 2014

गाँव के कामांध युवा और बढ़ते बलात्कार ,अप्राकृतिक दुष्कर्म के मामले |

बलात्कार इत्यादि की घटनाएं केवल शहरों तक ही सीमित नहीं बल्कि गाँव में इनके पैर अधिक फैले हुए हैं और अधिकतर मामले तो आपसी समझौते से, पंचायत द्वारा या कुछ ले दे के निपट जाया करते हैं या फिर समाज में बदनामी के डर से सामने ही नहीं आते |


इन घटनाओं में केवल बलात्कार ही नहींअप्राकृतिक दुष्कर्म  के मामले भी हुआ करते हैं जो अक्सर कामांध पुरुष आपस में मर्ज़ी के साथ अंजाम दिया करते हैं | लेकिन कभी कभी इन मामलों में भी बलात्कार होते देखा गया है जैसे कल खेतासराय(जौनपुर)।क्षेत्र के जैगहां गाँव के पास लखमापुर मोड़ पर स्थित चाय-पान की दुकान में काम करने वाले एक किशोर से सामूहिक रूप से अप्राकृतिक दुष्कर्म करने का मामला प्रकाश में आया है।


बलात्कार के अधिकतर मामले या तो दबंगों द्वारा अंजाम दिए जाते हैं या फिर  जवानी के जोश में  समाज से छुप  अपनी मर्जी से  बनाए गए अनैतिक संबंधों के मामले हुआ करते हैं | पुलिस भी गाँव में हो रहे रोज़ रोज़ के ऐसे मामलों से परेशान दिखती है जबकि सभी मामले रिपोर्ट नहीं होते और अक्सर पुलिस वाले भी ये कहते पाए जाते हैं की आपस में प्यार के चक्कर  ये चलायें  और पकडे जाने पे या धोका खाने के बाद मुसीबत पुलिस की हो |


सवाल ये हैं की बलात्कार के मामले चाहे किसी भी कारण से अंजाम दिए जा रहे हैं सही नहीं | ये भी एक सामाजिक समस्या है जिसका हल केवल कानून के पास नहीं बल्कि समाज के पास है | एक वर्ष पहले डॉ रीता से बातचीत के दैरात उन्होंने इस बात पे प्रकाश डाला था कि आज मोबाइल का इस्तेमाल ऐसे रिश्तों को जन्म देने का सबसे बड़ा कारण  है | और दूसरा बड़ा कारण इसी मोबाइल द्वारा पोर्न फिल्म का युवाओं द्वारा देखा जाना और एक दुसरे से शेयर करना पाया गया है |


गाँव में अभी भी युवा युवतियों का आपस में मिलना जुलना या दोस्ती को बुरी नज़र से देखा जाता है ऐसे में इनका पोर्न को देखना और बेरोकटोक मोबाइल से बातचीत करना एक ऐसे रिश्ते को जन्म देता है जिसका नतीजा अधिकतर बुरा होता है और इसे हल करने में पुलिस भी नाकाम दिखती है |


इस समस्या का एक हल गाँव के लोगों द्वारा युवाओं को जागरूक करना और ऐसे प्रेम संबंधों के खतरनाक नतीजोंके बारे में बताना भी हो सकता है | ऐसी समस्याओं में पुलिस अधिक कुछ नहीं कर सकती क्यूँ की आरोपी कौन, दोषी कौन इस बात का फैसला आसानी से नहीं हो पाता |

आप अपने बच्चों की ऐसी परवरिश करें की उन्हें कोई भी रिश्ते समाज से छुप के ना बनाने पड़ें |

जानिए कौन करवा रहा है जौनपुर का सुन्दरीकरण ?


नगर के चौराहे सौन्दर्यीकरण का काम गैर जनपद के नक्शानवीशों की तरफ से तैयार किया जा रहा है। जिसके तहत विदेशी स्टाइल में चौराहों पर फौव्वारा व साज-सज्जा किया जाएगा। जिससे रात को लाइटिंग में फौव्वारा से निकलने वाला पानी किसी मोती के मालाओं के सामान होगी। प्रमुख चौराहों के सुंदरीकरण के लिए सामाजिक संस्थाओं को जिम्मेदारी दी गई है। कुछ चौराहों का कार्य प्रगति पर है।

नगर के जेसीज चौराहे व पालिटेक्निक चौराहे पर फौव्वारा लगाया जाना है। इन स्थानों आकर्षक लाइटिंग की भी व्यवस्था की जाएगी। जिससे रात को बिजली की रोशनी में यह चौराहे और भी आकर्षक दिखाई देंगे। अगर बात करें कि हर चौराहों का सौन्दर्यीकरण कौन संस्था करेगी तो जेसीज चौराहा, नईगंज पेट्रोलपंप तिराहे पर सामाजिक संस्था जेसीज द्वारा अमरावती ग्रुप से काम करवाया जाएगा। इसके बाद पालिटेक्निक चौराहा को एसबीआई, वाजिदपुर तिराहे को यूबीआई, चहारसू चौराहा पर कीर्ति कुंज को सौन्दर्यीकरण कराना है। इसके अलावा भंडारी स्टेशन के बाहर भी सजावट होनी है। अभी जेसीज चौराहे व चहारसू चौराहे पर कार्य प्रगति पर है। जेसीज चौराहे का काम पूरा होने के बाद नईगंज तिराहे पर होगा। सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो दो माह में सभी चौराहों की साज-सज्जा पूर्ण हो जाएगी।

सबसे आकर्षक तिराहा बनेगा सिपाह :-जानकारों की माने तो सिपाह तिराहे पर शौचालय को हटाने के बाद वहां पर्याप्त स्थान मिला है। संभावना है कि वहां पर अच्छा जगह मिलने के कारण सबसे आकर्षक तिराहा बनाया जा सकता है। फिलहाल इस जगह पर प्रशासन की स्थिति कुछ स्पष्ट नहीं हो सकी है।

कोतवाली चौराहे के सौन्दर्यीकरण पर संशय:- कोतवाली चौराहे पर सौन्दर्यीकरण के कार्य के लिए किसी संस्था से बात की गई है। फिलहाल कुछ बात न बन पाने के कारण इस चौराहे के सौन्दर्यीकरण पर संशय है।

Sunday, September 7, 2014

जौनपुर का सुंदरीकरण चौराहे के बाद घाट हुए साफ़ |

जौनपुर : आदि गंगा गोमती को स्वच्छ रखने के लिए रविवार को नगर पालिका की तरफ से अभियान चलाया गया। जिसके तहत गोमती घाटों की सफाई कर लोगों को जागरूक करने का प्रयास किया गया। इस दौरान करीब 100 सफाईकर्मियों को लगाकर युद्ध स्तर पर लगाकर पसीना बहाया गया। जिससे नदी तट स्थिति घाटों की सफाई की गई।


नगर के हनुमान घाट व गोपी घाट पर सुबह नौ बजे से ही सफाई कर्मियों को लगा दिया गया। अधिशासी अधिकारी संजय शुक्ला, सफाई निरीक्षक हरिश्चंद्र यादव के नेतृत्व में सफाईकर्मियों ने घाटों की सीढि़यों पर जमे सिल्ट की सफाई की। दोनो ही घाटों पर मंदिर के बाहर सफाई कराकर डंपर के माध्यम से कूड़े कचरे को हटवाया गया। आस-पास के लोगों को बुलाकर हनुमान घाट पर गमले व आकर्षक पेड़ लगाने के प्रति सुझाव दिया गया। जिसको लोगों ने सहर्ष स्वीकार किया। लोगों की शिकायत में दोनों ही घाटों पर बंद पड़ी लाइटों को भी पालिका अधिकारियों ने दुरुस्त करने का आश्वासन दिया।

जौनपुर पर्यटन

चर्चित लेख

Gadgets By Spice Up Your Blog