728x90 AdSpace


  • Latest

    शुक्रवार, 8 सितंबर 2017

    आज जानिये रहस्यमय शाहगंज के इतिहास को |

    शाह का पंजा 
    आज का शहर शाहगंज जिसे किसी समय में शुजाउद्दौला ने बसाया था बहुत तरक्की वाला शहर नहीं कहा जा सकता जबकि इसका इतिहास केवल इतना ही नहीं बल्कि हिन्दू भाइयों के लिए धार्मिक महत्व भी रखता है |

    किसी समय में नवाबों की  पसंद बने  शाहगंज में अब  एराकियाना मोहल्ले में बदहाल हालत में बारादरी ही नवाबों की निशानी बची है बाकी कुछ मुहल्लों के नाम जैसे हुसैन गंज और अली गंज बचे हैं | शाह का पंजा , और एक ऐतिहासिक मस्जिद भी नवाबों के समय की बतायी जाती है |

    बारादरी
    शाहगंज के एक छोर पे पूर्वांचल की ऐतिहासिक एंव पौराणिक धर्म स्थली पर्यटन केंद्र विजेथुआ धाम आज भी मौजूद है जहां नाग पंचमी के बाद पड़ने वाले मंगलवार को बड़का मंगल पर्व के रूप में बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। विजेथुआ महावीर धाम में बड़े मंगल को प्रदेश ही नहीं वरन देश के कोने कोने से हनुमान भक्त दर्शन व पूजन करने आते हैं।  पास में ही मकरीकुण्‍ड भी है जहां हनुमान ने कालि‍नेम को मारा था|

    हिन्दू धर्म में शाहगंज का महत्व इस लिए भी बढ़ जाता है क्यूँ की यहाँ लंका विजय के बाद माता जानकी प्रभु राम व लक्ष्मण के साथ अयोध्या वापस लौटते समय रुकने की कथा सुनाई जाती रही  है और इस आगमन से जुडी कथा के आधार पे यहाँ 150 वर्ष पुराना चूड़ी मेला आज भी लगता है |

    चूड़ी मेला 
    इसी के साथ साथ यहाँ की रामलीला बहुत प्रसिद्ध है और  ये तिहासिक रामलीला 180 वर्ष पुरानी है। लीला मंचन के पूर्व पंडित अनन्त राम शर्मा ने रामनगर की रामलीला को देखा और फिर उसी के तर्ज पर रामलीला मंचन शुरू कराया।यह रामलीला ऐतिहासिक है। अगल-बगल के जनपदों में भी प्रसिद्ध है। सफल आयोजन में नगर के प्रबुद्ध, युवा व व्यापारी वर्ग के लोग बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं। इसके गौरव को बनाए रखने को लेकर अथक प्रयास किए जाते हैं|



    विजयथुआ मंदिर 
    शाहगंज भौगोलिक दृष्टिकोण से उतर और पूरब में स्थित है.शाहगंज की साक्षरता दर 64% जो की राष्ट्रीयस्तर पर सामान्य से ऊपर माना गया है भारत की सामान्य साक्षरता दर 59.5% माना गया है| महिलाओ का साक्षरता दर 57% पुरुषो का 71% है.जौनपुर के बाद, शाहगंज सबसे बड़ी मंडी अनाज, किराना की है और उत्तर पूर्वी उत्तर प्रदेश में सामान्य थोक और खुदरा दोनों बाजारों भी है.यह स्थानीय अर्थव्यवस्था में एक प्रमुख भूमिका निभाता है. आसपास के गांवों और कस्बों में राज्य के कई प्रमुख जिलों को समृद्ध रिश्तेदार हैं |शाहगंज में रामलीला और दुर्गा पूजा उत्सव बहुत ही प्रसिद्ध है.शाहगंज "शाह पजा" के लिए भी काफी प्रसिद्धहै|

    एस एम मासूम







     Admin and Founder 
    S.M.Masoom
    Cont:9452060283
    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: आज जानिये रहस्यमय शाहगंज के इतिहास को | Rating: 5 Reviewed By: S.M.Masoom
    Scroll to Top