728x90 AdSpace


  • Latest

    शुक्रवार, 8 सितंबर 2017

    गउरा बादशाहपुर का इतिहास और उस से जुडी कहानियाँ |



    जौनपुर शहर के साथ साथ इस बार आस पास के गाँव का रुख किया मैंने और कुछ गाँव की तसवीरें वहाँ का रहन सहन वहाँ का इतिहास सब कैमरे में क़ैद करता रहा जिस से उन्हें आप तक पहुंचा सकूँ | मछलीशहर के बाद जा पहुंचा जौनपुर और आज़मगढ़ के बॉर्डर पे बसे गाँव गौरा बादशाहपुर जिसका पुराना नाम गौरा था और औरंगज़ेब के वहाँ आ के जाने के बाद उसका नाम गौरा बादशाहपुर पड़ गया |
    कर्बला जो aurnagzeb के दौर में बनी 

    अभी जो इतिहास गौरा बादशाहपुर का बताने जा रहा हूँ वो वहाँ के रहने वालों की ज़बानी सुना हुआ  इतिहास है जो इतिहास की किताबों से अलग हो सकता है | वहाँ पे मुझे लगभग ३०० वर्ष पुराने या कह लें मुग़ल दौर के बने मस्जिद और कर्बला मिली और कुछ पुराने मंदिर मिले जो पुराने तो हैं लेकिन उनसे जुडी किवदंतियां बताती हैं की उसी गाँव के कुछ बाबा और संतों की याद में या उनके द्वारा बनवाए गए मंदिर है जिनका अधिक इतिहास वहाँ के लोग नहीं जानते |
     https://www.youtube.com/user/payameamn

    वहाँ के इतिहास की तलाश में मैं जा पहुंचा कैसर अब्बास रिज़वी साहब के घर जिनके अनुसार उनका घराना यहाँ औरंगज़ेब से  समय से यहाँ रह रहा है |  उनका कहना है की उनके पुरखे सैयेद नूरुल्लाह जो औरंगज़ेब के किसी बड़े ओहदेदार के भाई था नाराज़गी में जौनपुर के गौरा गाँव में आ गए जिन्हें तलाशते हुए उनके भाई और औरंगज़ेब दोनों का आना यहाँ हुआ | 

    सैयेद नूरुल्लाह  एक पहुंचे हुए संत थे जिन्होंने यहाँ आने के बाद यहाँ से जाना स्वीकार नहीं किया तो औरंगज़ेब ने उन्हें यहाँ पे ५७९ बीघा जमीन दे दी और वो यही बस गए | यहाँ बसने के बाद उन्होंने यहाँ कर्बला और मस्जिद बनवाई जो अभी मौजूद है | उसी समय से यहाँ का नाम गौरा से गौरा बादशाहपुर पड़ गया |
    Qabr Syed Noorullah 

    सैयेद नूरुल्लाह साहब की कब्र वहीँ उनके घर के पास जिसे बमैला भी कहा जाता है मौजूद है और वहाँ लोग मुरादें मांगते और चादरें चढाते हैं |

    कैसर अब्बास रिज़वी साहब के अनुसार ५७९ बीघा ज़मीन देने का औरंगज़ेब का फरमान आज भी उनके घराने में मौजूद है |
    More than 250 years old Shiv mandir

    गौरा बादशाहपुर की कर्बला के ही पास में एक तालाब और मंदिर है जो उसी दौर का बताया जाता है जिसके इतिहास में किसी नागा बाबा का ज़िक्र आता है लेकिन मंदिर शिव मंदिर है जहां तलब और मंदिर का द्रश्य बहुत से सुंदर दिखता है |
    Eidgaah build 300 years back
    गौरा बादशाहपुर का इतिहास  वहां के लोगों की ज़बानी 
    क़ब्र सय्यद नूरुल्लाह



    • Blogger Comments
    • Facebook Comments
    Item Reviewed: गउरा बादशाहपुर का इतिहास और उस से जुडी कहानियाँ | Rating: 5 Reviewed By: एस एम् मासूम
    Scroll to Top