728x90 AdSpace


  • Latest

    गुरुवार, 4 दिसंबर 2014

    ज़हर खुरानी की वारदातें सफ़र से घर तक खतरा ही खतरा |

    जहरखुरानी  कि घटनाएँ आज कल आम होती जा रही हैं विशेषकर लंबी दूरी की ट्रेनों जम्बूतवी, गोल्डन टेम्पल, अवध एक्सप्रेस, साबरमति आदि ट्रेनों में जहरखुरानी की वारदातें ज्यादा होती हैं. बदमाश यात्रियों से अखबार, माचिस जैसी चीजें मांगकर बातचीत की शुरुआत करते हैं। जब उन्हें लगता है कि यात्री उनकी बातों में आ गया है तो उन्हें खाने-पीने की वस्तु ऑफर कर वारदात करते हैं|

    रेलवे पुलिस आदि के इंतज़ाम के बावजूद ऐसी घद्नाएं बढती ही जा रही हैं इसलिए हम सभी को यह चाहिए कि अपनी सुरक्षा स्वम करें और लोगों को भी इस से बचने के उपाय बातें.  सब से आसान रास्ता तो यही है कि आप ट्रेन के सफ़र मैं किसी का दिया कुछ भी खाएं पियें नहीं यहाँ तक कि गुटका और सिगरेट को भी हाथ ना लगाएं.
    ख़बरों के अनुसार अक्सर यह लोग केला ,बिस्किट,पानी कि बोतल, चाय ,गुटका ,आईसक्रीम इत्यादि का प्रयोग  करते हैं|  लुटेरे आप से ज़रा सी घनिष्टता बनाने के बाद आप को बिस्कुट ,केला  जैसी कोई चीज़ देता है एक दो वो पहले खुद खाता है और आप को भी उसमें  से एक देता है| आप को यह यकीन हो जाता है कि जब यह खुद खा रहा है तो उसमें सब ठीक है लेकिन जो आप को दिया जा रहा है उसी केले मैं इंजेक्शन से नशे कि दावा होती है या बिस्कुट मैं नशे का केमिकल लगा होता है| उसको खाते ही आप बेहोश हो जाते हैं आप पास के यात्री समझते हैं कि आप सो गए और लुटेरा आप का सामान ले के चलता बनता है.

    ट्रेन और बसों में सफ़र करते समय ये सब होता था ये सुना और देखा है लेकिन अब इन ज़हर खुरानो की पहुँच लोगों के घरों तक होने लगी है|  ट्रेनो बसो की यात्रियो को लूटने वाला जहरखुरानो का गिरोह अब आम जनता की घरो में घुसकर अपने कार्यो का अंजाम देना शुरू कर दिया है। इन गिरोह के दो सदस्यों ने जौनपुर जिले जलालपुर थाना क्षेत्र के जरैइला गांव में अपनी बेटी की शादी के लिए रिश्ता तयकरने के बहाने अमर बहादुर के घर में घुस गये। अमर बहादुर मेहमान समझकर उनकी खतिरदारी किया। खाना खाने के बाद जहर खुरानो ने अपने साथ लाया लड्डू पूरे परिवार को प्रसाद बताकर अपने हाथो से खिलाया। लड्डू खाने के बाद परिवार में मौजूद छः सदस्य अमर बहादुर सिंह पुत्र सुरजू 40 वर्ष सुमन देवी पत्नी विकास 25 वर्ष आशा देवी पत्नी अमर बहादुर 35 वर्ष सनी कुमार पुत्र अमर बहादुर 14 वर्ष अशर्फी देवी पत्नी सुरजू 70 वर्ष सोनी पुत्री अमर बहादुर 19 वर्ष अचेत हो गये है। जब पूरा परिवार बेहोश हो गया तो दोनो बदमाशो ने घर में रखा गहने रूपये और कीमती सामान उठा ले गये।
    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: ज़हर खुरानी की वारदातें सफ़र से घर तक खतरा ही खतरा | Rating: 5 Reviewed By: S.M.Masoom
    Scroll to Top