728x90 AdSpace


  • Latest

    सोमवार, 13 अगस्त 2018

    राजा इदारत जहां १८५७ जनक्रांति का प्रथम शहीद ?

    राजा इदारत जहां १८५७ जनक्रांति का प्रथम शहीद किस परिवार से थे ?

    राजा इदारत जहां के पूर्वज सैयद आख्वंद मीर थे जो हुमायूँ के साथ ईरान से भारत आये थे । आख्वंद मीर की औलाद में  सैयदजान अली थे जो खान ज़मा अली कुलीच खान के  लिए जौनपुर सेना के साथ  भेजे गए  । उन्होंने राजा माहुल, राजा अंगुली और राजा सहावी को गिरफ्तार कर के शान्ति स्थापित की थी । अकबर बादशाह ने उन्हें "जान" की पदवी से सम्मानित किया ।

     इस तरह उन्हें सैयेद जान अली सैयेद जान कहा जाने लगा  । बादशाह अकबर ने उन्हे माहूल की जागीर का पुरा इलाक़ा दे दिया और राजा की पदवी से सम्मानित किया ।

    माहुल दीदार गंज

    माहुल शमसाबाद

    माहुल खुरासा

     सैयेद जान अली सैयेद जान ने अपने रहने के लिये खुरासा को आबाद किया जिसका नाम अब खुरासो हो गया है । राजा शमशाद जहा ने शम्साबाद और राजा दीदार जहा ने दीदार गंज आबाद किया और इसी प्रकार बशारत पूर और इदारात नगर भी आबाद किये गये ।


    राजा इदारत जहां के बारे में और लेख ।

    १. आज़ादी की लड़ाई का पहला शहीद एक हुसैनी था
    २. आज जानिये जौनपुर शाही क़िले की दो क़ब्रो का राज़ क्या है ?

    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: राजा इदारत जहां १८५७ जनक्रांति का प्रथम शहीद ? Rating: 5 Reviewed By: S.M.Masoom
    Scroll to Top