728x90 AdSpace


  • Latest

    शुक्रवार, 28 सितंबर 2018

    धारा ४९७ हटाने पे जौनपुर वासियों के विचार-डॉ पवन विजय |

     https://www.youtube.com/user/payameamnजो भारतीय संस्कृति की दुहाई दे रहे वह पहले अपने घर की संस्कृति को देखें समझें. ४९७ से पहले भी व्यभिचार था इसके बाद भी व्यभिचार रहेगा. गाँवों में लोग ४९७ नही जानते लेकिन परिवार सुचारू रूप से चल रहे हैं. पिता को गाली देना, माँ को घर से निकालना, बेटा बेटी में भेद, घर को कलह का केंद्र बना देना ये सब ४९७ से कम खतरनाक तो नही. परिवार के टूटने का कारण कोई दूसरी औरत या दूसरा आदमी नही बल्कि जमीन जायदाद का लालच और परिवार में भेदभाव, महत्वाकांक्षा होती है. खामखा इस पर हल्ला मचाने के अलावा बहुत से ऐसे काम हैं जिसे करने से परिवार की सुदृढ़ता बनी रहेगी. आदमी और औरत का रिश्ता इतना जटिल नही है जितना हल्ला मचाया जा रहा है. जो लोग ज्यादा हल्ला मचाते हैं अवसर मिलने पर चूकते नही. व्यक्ति अपनी मर्यादा खुद स्थापित करे तो वह कहीं बेहतर कि न्यायलय कोई सीमा बांधे, मैं यहाँ एक हद तक अराजक हूँ . मेरा मानना है कि कोर्ट और पुलिस का कम से कम प्रयोग जिस राज्य में हो वह उतना ही कल्याण कारी और नियोजित होगा. हमारे व्यवहार प्रतिमान में खोट है. जहाँ चाहें थूक दें, गन्दगी फैला दें , गाली गुफ्ता करने लगें कोर्ट कहाँ कहाँ निगरानी करेगा. स्व को देखिये न्यायलय की जरूरत नही रहेगी. और हाँ भारतीय संस्कृति के नाम पर तो इस निर्णय को कदापि न देखें नही तो लोक परम्परा में ऐसी चीजें प्रचलित हैं कि नैतिकता के सारे खोखले मापदंड कपूर की तरह उड़ जायेंगे.

     Chat With us on whatsapp
     Admin and Founder 
    S.M.Masoom
    Cont:9452060283
    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: धारा ४९७ हटाने पे जौनपुर वासियों के विचार-डॉ पवन विजय | Rating: 5 Reviewed By: S.M.Masoom
    Scroll to Top