728x90 AdSpace


  • Latest

    गुरुवार, 7 जुलाई 2016

    जौनपुर में कुछ ऐसा रहा ईद का पहला दिन |



    शिया समुदाय ने देर रात ईद के चाँद होने का एलान कर दिया और एलान के साथ ही रोजेदारों ने ईद की तैयारीयां शुरू कर दी | लोगों ने फ़ौरन फितरा निकाला  जिस से ग़रीबों की ईद भी हो सके | और लग ये की कौन से कपडे पहने जायेंगे और कल किस से ईद मिलना है किसे बुलाना है | कोई  ग़रीबों के साथ ईद की ख़ुशी बांटना चाह रहा था कोई रिश्तेदारों के साथ तो कोई बड़े बड़े ओहदेदारों को अपने घर ईद पे बुला के उन्हें खुश रखना चाह रहा था |

    सभी खुश थे एक महीने के रोज़े के बाद ईद में मिलना जुलना होगा सभी से | सुबह होते ही लोग नाश्ता कर के निकल पड़े इमामबाड़ों और मस्जिद में स्थित ईदगाहों की तरफ नमाज़ पढने और बाद नमाज़ दुआ मांगी की देश में दुनिया में अमन और शांति बनी रहे |

    इस मौके पर जिला प्रशासन ने कड़ी सुरक्षा व्यवस्था का इंतजाम किया था। 

    शिया धर्मगुरु मौलाना सफदर हुसैन जैदी ने बताया कि शीयाओं के सर्वोच्च धर्मगुरु आयतुल्लाह सिस्तानी ने मंगलवार की देर रात इरान से यह एलान किया था कि शिया समुदाय के सभी लोग बुधवार को पूरी अकीदत के साथ ईद की नमाज अदा कर सकते है। आनन-फानन में बुधवार की भोर में सहरी से पहले तमाम मोहल्लो, इमामबाड़ों की मस्जिद से इस बात का एलान होने लगा कि आज लोग रोजा न रखें और ईद की नमाज अदा करने के लिए ईदगाह समय से पहुंचे। 

    सदर इमामबाड़ा स्थित ईदगाह में सुबह साढ़े नौ बजे शिया जामा मस्जिद के पेश इमाम मौलाना महफुजुल हसन खां ने ईद की नमाज अदा करायी। इस मौके पर उन्होंने कहा कि आज पूरी दुनिया में आतंकवाद का बोलबाला है। उनसे निबटने के लिए हम सबको एक होने की जरुरत है। जिस तरह से बेगुनाहों का खून बहाया जा रहा है वो इस्लाम में जायज नहीं है। 





    jaunpurazadari.comवहीं हुसैनिया नकी फाटक स्थित इमामबाड़े में मौलाना सफदर हुसैन जैदी ने ईद की नमाज अदा करायी। नमाज के बाद उन्होंने मुल्क में अमन शांति व तरक्की के लिए दुआएं मांगी। बलुआघाट स्थित हाजी मोहम्मद अली के इमामबाड़े में मौलाना फजले मुमताज साहब ने ईद की नमाज अदा करायी। इस मौके पर जिलाधिकारी भानु चंद्र गोस्वामी, पुलिस अधीक्षक रोहन पी कनय सहित कई वरिष्ठ अधिकारियों ने सदर इमामबाड़ा ईदगाह पहुंचकर मौलाना व अन्य लोगों को गले मिलकर ईद की बधाई दी। वहीं शहर कोतवाल सतेंद्र नाथ तिवारी ने नमाज को देखते हुए सुरक्षा के कड़े प्रबंध कर रखे थे। जगह-जगह सबइंसपेक्टर व पुलिस की तैनात थी। 


    jaunpurazadari.comइसी क्रम में करंजाकला ब्लाक के करंजा खुर्द की शिया जामा मस्जिद में ईदुल फित्र की नमाज हुई जिसमें मौलाना मनाजिरुल हसनैन ने नमाज अदा कराई और खुतबे में कहा कि ईद का दिन हजरत अली अ.स. के इरशाद के मुताबिक वो दिन है जिस दिन इंसान से कोई गुनाह न हो लेहाजा हम सब अली अ.स. वालों का फर्ज है कि एक साथ इकठठा हो करके ईदुल फित्र की नमाज अदा करें और उसके बाद गले ही न मिलें बल्कि दिल से दुश्मनी खत्म करें अल्लाह के घर मस्जिद में एक दूसरे के गला मिलना साल भर के लिए आपस में यह एग्रीमेंट होना चाहिए कि हम लोग मेल मोहब्बत के साथ रहेंगे और दूसरे मजहबों का एहतराम करें वो भी हमारे भाई है दो तरह से एक तो वो भी उसी खुदा को मानते है जिसे हम मानते है वो भी उसी देश में रहते है जिसमें हम रहते है ईस्लाम में पड़ोसियों का बड़ा हक है लेहाजा ईद के मौके पर भूलना नहीं चाहिए इस्लाम हमदर्दी मेलजोल का मजहब है दहशतगर्दी का नहीं अली अ0 स0 ने दौरे हुकूमत में तमाम कौमों का वैसे ख्याल रखा जैसे मुसलमानो का ख्याल रखा।



    इसी के साथ साथ डीडीएस वेलफेयर सोसायटी द्वारा स्वयं के गोद लिये गांव धरनीधरपुर में ईद के अवसर पर गरीब बच्चों को उपहार भेंट किया गया। इस दौरान उस गांव में गरीब बच्चों और अभिभावकों में गजब का उत्साह देखने को मिला। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि खण्ड शिक्षा अधिकारी धर्मापुर ममता सरकार ने कहा कि प्रकृति ने हमें निरूशुल्क पानी, हवा इत्यादि दिया है जो जीवन के मूलभूत आवश्यकताएं है। इसी तरह सरकार प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षा, किताबें, भोजन, संस्कार, कपड़े निरूशुल्क दे रही है जिसका लाभ उठाना चाहिए जिससे बच्चों का भविष्य संवरेगा तो जीवन श्रेष्ठता की ओर अग्रसर होगा। उन्होंने अभिभावकों से अपील किया कि बच्चे देश के भविष्य हैं उन्हें प्राथमिक विद्यालयों में अवश्य भेंजे। इस मौके पर एबीआरसी धर्मापुर अजय कुमार मौर्या ने कहा कि संस्था द्वारा किये जा रहे कार्य की जितनी भी प्रशंसा की जाय वह कम है। बच्चों को जैसी शिक्षा, संस्कार मिलेगी वह वैसे ही बनेंगे। अभिभावकों की जिम्मेदारी है कि वह बच्चों को शिक्षित करें और स्कूल तक पहुंचाएं। महामूर्ति ग्रुप के स्वामी शैलेंद्र कुमार ने कहा कि शिक्षा एक ऐसी दिव्य ज्योति है जिसके आने से जीवन के सारे अंधकार स्वतरू ही दूर हो जाते है। ग्रामीण विकास संस्था कटका के स्वामी रमेश यादव ने कहा कि संस्था के इस सराहनीय कार्यों को देखकर लोगों को यह सीखन की आवश्यकता है कि हम अपने घर तक ही नहीं बल्कि अपने अगल बगल रह रहे लोगों के बारे में भी सोचें कि क्या हम उनके साथ खड़े होकर उन्हें जीने के ताकत दे सकते है। अंत में संचालिका आरती सिंह ने सभी के प्रति आभार प्रकट किया।


     Admin and Owner
    S.M.Masoom
    Cont:9452060283
    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: जौनपुर में कुछ ऐसा रहा ईद का पहला दिन | Rating: 5 Reviewed By: S.M.Masoom
    Scroll to Top