728x90 AdSpace


  • Latest

    मंगलवार, 19 जुलाई 2011

    जिस देश मैं आज भी ग़रीब भुखमरी से दम तोड़ देते हों वहाँ पे

    पिछले एक सप्ताह से हर अखबार मैं कई सौ कुन्तल गेहूं शाहगंज रेलवे गोदाम मैं सड़ने कि खबर सुनाई दे रही है. ३० जून को शाहगंज प्लेटफार्म पर टीनशेड की व्यवस्था न होने से खुले आसमान में लगभग 52 हजार बोरी गेहूं के बरसात में भीगने कि खबर आयी. फिर अभी १७ जुलाई को पंजाब से आये गेंहू मैं से १६ सौ कुन्तल के भीगने कि खबर आयी. जिस देश मैं आज भी ग़रीब भुखमरी से दम तोड़ देते हों वहाँ पे ऐसी ख़बरों को पढ़ कर दुःख होता है.

    इस बर्बादी का जो कारण बताया जा रहा है वो शाहगंज रेलवे के रैक प्वाइण्टों पर शेड का ना होना है और इसी कारण से जब माल उतरता है तो बारिश मैं भीगता है. इस बार जब गेहूं उतरा और बारिश हुई तो उसको भीगने से बचाने का एक मात्र रास्ता तिरपाल ओढ़ाने से भी कोई फायदा ना हुआ.
    सरकार कि तरफ से वादे हो रहे हैं कि जल्द इस्पे ध्यान दिया जाएगा. क्या होगा यह तो समय ही बताएगा लेकिन ऐसी स्थिति चिंताजनक है और इसका समाधान जल्द होना चाहिए.
    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    1 comments:

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: जिस देश मैं आज भी ग़रीब भुखमरी से दम तोड़ देते हों वहाँ पे Rating: 5 Reviewed By: S.M.Masoom
    Scroll to Top