728x90 AdSpace

This Blog is protected by DMCA.com

DMCA.com for Blogger blogs Copyright: All rights reserved. No part of the hamarajaunpur.com may be reproduced or copied in any form or by any means [graphic, electronic or mechanical, including photocopying, recording, taping or information retrieval systems] or reproduced on any disc, tape, perforated media or other information storage device, etc., without the explicit written permission of the editor. Breach of the condition is liable for legal action. hamarajaunpur.com is a part of "Hamara Jaunpur Social welfare Foundation (Regd) Admin S.M.Masoom
  • Latest

    रविवार, 1 नवंबर 2020

    सूफी पीर व फकीरों ने खोजी थी कव्वाली

    सूफी पीर व फकीरों ने खोजी थी कव्वाली| 

     कव्वाली का आगाज़ मुस्लिम धर्म के सूफी पीर/फकीरों ने किया। आठवीं सदी में ईरान और दूसरे मुस्लिम देशों में धार्मिक महफिलों का आयोजन किया जाता था, जिसे समां कहा जाता था। समां का आयोजन धार्मिक विद्वानों यानी शेख की देखरेख में किया जाता था। समां का मकसद कव्वाली के जरिए ईश्वर के साथ संबंध स्थापित करना होता था। ईरान से भारत आई कव्वाली शुरुआत में सूफियों ने अमन और सच्चाई का पैगाम पहुंचाने के लिए मौसिकी और समां का सहारा लिया। ईरान से चलकर कव्वाली भारत आई और भारत के सूफी संतों ने क़ौव्वाली को लोकप्रिय बनाया। इसमें चिश्ती संत शेख निज़ामुद्दीन औलिया का प्रमुख योगदान रहा। इसके बाद अमीर खुसरो ने भारतीय संगीत और लोक भाषाओं का समायोजन करके क़ौव्वाली को अपने समय की संगीत की एक विकसित और लोकप्रिय विधा के रूप में स्थापित किया। 

    प्रार्थना व भजन की तरह है कव्वाली प्रार्थना, भजन की तरह कव्वाली में भी शब्दों का ही असली खेल है, लेकिन कव्वाली की विशेष बनावट के कारण शब्दों और वाक्यों को अलग-अलग तरीके से निखारकर गाया जाता है। हर बार किसी विशेष स्थान पर ध्यान केंद्रित करने से अलग-अलग भाव सामने आते हैं। शब्दों को कई बार दोहराया जाता है इसमें शब्दों को कई बार दोहराया जाता है, लेकिन जैसे-जैसे क़ौव्वाल शब्दों को दोहराते हैं शब्द बेमायने होते जाते हैं और सुनने वालों के लिए एक पुरसुकून अहसास बाकी रह जाता है, जहां जाकर वह अध्यात्मिक समाधि में खो जाते हैं। यही कव्वाली की कामयाबी का चरम है। कव्वाली को गाते समय क़ौव्वाल को ध्यान रखना पड़ता है कि अगर कोई गाने वाला या सुनने वाला आध्यात्मिक समाधि में पहुंच जाए तो क़ौव्वाल की जिम्मेदारी होती है कि वो बिना रुके कुछ ही शब्दों को तब तक दोहराता रहे जब तक वो व्यक्ति वापस पूर्व अवस्था में नहीं आ जाए।


    13वीं शताब्दी के अंत में फारसी, अरबी, तुर्की और भारतीय संगीत की परंपराओं को जोड़कर भारत में कव्वाली बनाने का श्रेय दिया जाता है। ‘समा’ शब्द का उपयोग अक्सर मध्य एशिया और तुर्की में कव्वाली के समान रूपों को संदर्भित करने के लिए किया जाता है, और भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश में, कव्वाली की सभा के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला औपचारिक नाम “महफिल-ए-समा” है।


    यह आमतौर पर एक प्रमुख गायक और सहगान के साथ किया जाता है, जो आह्वान-और-प्रतिक्रिया शैली में गाया जाता है। इन गायकों को संगीत वाद्ययंत्र (ढोलक या तबला, और एक सितार) बजाने वाले कलाकारों द्वारा समर्थित किया जाता है। औपचारिक यंत्र के अलावा, हाथ से ताली बजाना तालबद्ध संरचना पर ज़ोर देने और दर्शकों को संलग्न करने का काम करता है। आधुनिक काल में सितार की जगह हारमोनियम का उपयोग किया जाता है। तकनीकी रूप से, केवल पुरुष कव्वाली को गा सकते हैं, जिसमें महिला कलाकार सुफियाना कलाम, सूफी शब्द गाती हैं। कलाकार दो पंक्तियों में ज़मीन पर पालथी मारकर बैठते हैं, प्रमुख गायक, अतिरिक्त गायक और हारमोनियम बजाने वाले पहली पंक्ति में और अगली पंक्ति में सहगायक और अन्य वाद्ययंत्र बजाने वाले होते हैं।
    समय के साथ-साथ कव्वाली ने अंतराल और संरचना के संदर्भ में कई महत्वपूर्ण बदलावों को देखा है। भारतीय उपमहाद्वीप में चार प्रमुख सूफी क्रमों ने एक मज़बूत आधार बनाया है, जो हैं: चिश्ती, कादरी, सुहरवर्दिया और नक्शबंदी कव्वाली। इन चार में से, चिश्ती क्रम ने उपमहाद्वीप में कव्वाली के संरक्षण और प्रसार में सबसे अधिक योगदान दिया है। जैसे-जैसे इस क्षेत्र में सूफीवाद फैलता गया, यह अपने स्थानीय स्वादों, भाषाओं, रीति-रिवाजों और सांस्कृतिक प्रथाओं को आत्मसात करता गया, जिसके चलते कव्वाली में भी कई बदलावों को देखा गया। वहीं भारतीय कव्वाली प्रदर्शन के पहले से मौजूद प्रदर्शनों की सूची में मराठी, दखिनी और बंगला कव्वाली को शामिल किया गया है।
    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    0 comments:

    टिप्पणी पोस्ट करें

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: सूफी पीर व फकीरों ने खोजी थी कव्वाली Rating: 5 Reviewed By: S.M.Masoom
    Scroll to Top