728x90 AdSpace


  • Latest

    बुधवार, 14 दिसंबर 2016

    कहीं पे हो रहा कौमी यकजहती तो कही मनाया एकता दिवस |

    जौनपुर के इतिहास और यहाँ के समाज और तरक्की के लिए काम करता हमारा जौनपुर अब कामयाबी की सीढियां चढ़ने लगा है | यह "हमारा जौनपुर " है जो न मेरा न तेरा बल्कि सबका है | इस बार  हजरत मुहम्मद (स.अ.व) के जन्म दिवस के अवसर पे जौनपुर में रहने का मौक़ा मिला और मुसलमानों के हर फिरके के लोगों को इसे मिल जुल के मनाते देख अच्छा लगा | एक तरफ शिया समुदाय हफ्ता ऐ वहदत (एकता दिवस ) मना रहा है तो दूसरी तरफ कौमी यकजहती का प्रोग्राम होते देखा | 
    हफ्ता ऐ वहदत (एकता दिवस ) में तो मुझे एक वक्ता के रूप में बुलाया गया जहां मैंने कुछ बातें मुसलमानों से कही जिसमे मुख्य यह की इस्लाम की पहचान कुरान है और हमारा किरदार यह बतायगा की कुरान में क्या लिखा है क्यूँ की लोग उनके किरदार  को देखते हैं जो खुद को कुरान पे चलने वाला मुसलमान बताते हैं , कुरान को अन्य धर्म वाले कम ही पढ़ते हैं इसलिए अपना किरदार कुरान के अनुसार रखो और समाज को अमन का पैगाम वैसे ही देते रहो जैसे हजरत मुहम्मद (स.अ.व) ने दिया था |
    उसके बाद शाम  को कुछ मित्रों के साथ मर्कजी सीरत समिति द्वारा आयोजित कौमी यकजहती के प्रोग्राम में जाना हुआ और वहाँ भी एकता और इंसानियत की बातें सुनके अच्छा लगा | 

    बाहर निकलने पे शहर इंसानियत का पैगाम देने वाले   हजरत मुहम्मद (स.अ.व) के जन्म की ख़ुशी मना रहा था सारा शहर जगमगा रहा था |


    अटाला मस्जिद 

    कौमी यकजहती का प्रोग्राम 

    अज़ादारी कौंसिल द्वारा आयोजित हफ्ता ऐ वहदत 

    अज़ादारी कौंसिल द्वारा आयोजित हफ्ता ऐ वहदत 


     Admin and Founder 
    S.M.Masoom
    Cont:9452060283
    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: कहीं पे हो रहा कौमी यकजहती तो कही मनाया एकता दिवस | Rating: 5 Reviewed By: एस एम् मासूम
    Scroll to Top