728x90 AdSpace


  • Latest

    गुरुवार, 26 मार्च 2020

    समाज के बीच रह रहे कोरोना पीड़ितों की पहचान आवश्यक |

    डब्ल्यूएचओ के प्रमुख ने कहा, ''आइसोलेशन में रखे जा रहे लोगों को खोजना, आइसोलेट, परीक्षण और उनका इलाज करना सबसे अच्छा और तेज तरीका है
    कोरोना से जंग लड़ने के लिए लॉक डाउन का ऐलान प्रशंसनीय है और हर व्यक्ति को इसका पालन सख्ती से करना चाहिए लेकिन समस्या यह है की आखिर लोग अपने खाने पीने की वस्तुएं बिना  बाहर जाय कैसे प्राप्त करे | इसका इंतेज़ाम पूरे देश में सरकार को करना होगा जिस से किसी को घर से बाहर निकलने की आवश्यकता नहीं पड़े | यहाँ तक की किसी भी प्रकार की बीमारी की हालत में हर शहर में इमरजेंसी नंबर दिए जाएँ जहां से उन्हें घर बैठे डॉक्टर और दवाओं की सुविधा मिल सके |  वरना  हर व्यक्ति कभी दवाओं के लिए कभी सब्ज़ी दूध और राशन के लिए बाहर  निकलता रहेगा और समस्या का समाधान  होने में समय अधिक लगेगा | कुछ बड़े शहरों में तो लोग घर बैठे सभी सुविधाओं का लाभ उठा पा रहे हैं लेकिन छोटे शहरों में सब्ज़ी तक के लिए बाहर  निकलने को मजबूर है लोग | 

    दूसरे आज की सबसे बड़ी समस्या वे लोग बन सकते हैं जिनकी पहचान नहीं हुयी है और वे अपने घरों या समाज में सबके साथ उठ बैठ रहे हैं  | ये वे लोग है जो उस समय अपने अपने शहरों में देश विदेश से भाग के आये हैं जब लॉक डाउन नहीं था और समाज में घूम फिर रहे हैं | इस बात की सम्भावना से इंनकार नहीं किया जा सकता की हर शहर में इनमे से कुछ कोरोना के शिकार हिहोंगे और दूसरों में फैला रहे होंगे | डब्ल्यूएचओ के प्रमुख ने कहा, ''आइसोलेशन में रखे जा रहे लोगों को खोजना, आइसोलेट, परीक्षण और उनका इलाज करना सबसे अच्छा और तेज तरीका है| 

    यदि ऐसे लोगों की पहचान नहीं की जा सकी तो यह गंभीर समस्या बन के उभरेगा जिसे कण्ट्रोल करना असंभव  हो जाएगा | छोटे शहरों में तो समस्या और भी गंभीर हैं क्यों की मुंबई दिल्ली या विदेश से लोग भाग भाग के अपने गांव शहरों में पिछले एक महीने से पहुँच रहे थे और आज भी उनमे से किसी को कोरोना का संक्रमण है या नहीं जांच नहीं हो सकी या कह लें पहचान नहीं हो सकी | 

    ऐसे हालात में यह हम सबकी भी ज़िम्मेदारी है की ऐसे लोग जो बाहर से आये हैं उनकी पहचान करें उनकी जांच करवाए और उनसे मिलने जुलने से खुद को कम से कम लॉक डाउन के रहते बचाये | हर दिन अब ऐसी खबरें आने लगी हैं की  फुलां आदमी बाहर से आया था और जब तक उसके कोरोना पीड़ित होने की पहचान हो पाती वो सौ दो सौ में यह बिमारी फैला चूका था | 

    सरकार का सहयोग करे और अपनी सहायता सबसे पहले खुद करें | 
    एस एम मासूम  
     Chat With us on whatsapp

     Admin and Founder 
    S.M.Masoom
    Cont:9452060283
    Next
    This is the most recent post.
    पुरानी पोस्ट
    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: समाज के बीच रह रहे कोरोना पीड़ितों की पहचान आवश्यक | Rating: 5 Reviewed By: S.M.Masoom
    Scroll to Top