728x90 AdSpace


  • Latest

    मंगलवार, 12 अप्रैल 2016

    आज आप को उन कोठियों की सैर करवाता हूँ जिनसे मेरी बचपन की यादें जुडी हुई हैं|

    मुझे अपने वतन जौनपुर से हमेशा से मुहब्बत रही लेकिन इस वतन में रहने का अवसर कम ही मिल पाया करता है मुझे | वैसे वर्ष में ३-४ चक्कर अब वतन पहुँच जाता हूँ लेकिन जब भी वापस आता हूँ दिल में एक ख्वाहिश बाकी रह जाती है काश २-४ दिन और मिल जाते |

    मेरी इस जन्म भूमि ने मुझे बहुत कुछ दिया है | बचपन की  यादे ,वो दादी की सुनायी कहानियां ,वो मक्के के खेतों में पतंगे पकड़ना, वो बड़ी बड़ी ५-६ फिट की मूली काट के खाना | सब आज भी याद है मुझे | आँख खुली जौनपुर में तो आस पास बड़ी बड़ी कोठियां देखीं ,जिनके कोने कोने में आज भी मेरा बचपन दिखाई देता है |
    जैसे जैसे बड़ा होता गया जौनपुर शहर से जौनपुर के आस पास के गाँव ,खेत ,ताल ,तक आजा जाना होने लगा |



    चलिए आज आप को उन कोठियों की सैर करवाता हूँ जिनसे  मेरी बचपन की यादें जुडी  हुई हैं|





     मेरा वो घर जहां मेरा जन्म हुआ |
     यह वो घर हैं जहां मेरे जीवन का सबसे अधिक समय बीता |
    ३ वर्ष की आयु से १९ वर्ष का लम्बा समय यहीं बिताया |

    यह उस घर की तस्वीर है जहां मेरा विवाह हुआ |


    यह वो घर है जहां मैं पिताजी और माता जी के साथ अपनी मौसी से मिलने जाया करता था और जब भी जाता १०-१५ दन अवश्य गुज़रता था |


    अपने जीवन के ३० वर्ष कर्मभूमि में गुज़ारने के बाद भी अपने वतन की याद कभी कम न हो सकी|  दिल यही चाहता है जीवन का बाकी समय अपने वतन को दे दूँ | देखिये किस्मत कहाँ ले जाती है 

    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: आज आप को उन कोठियों की सैर करवाता हूँ जिनसे मेरी बचपन की यादें जुडी हुई हैं| Rating: 5 Reviewed By: S.M.Masoom
    Scroll to Top