728x90 AdSpace


  • Latest

    बुधवार, 22 मई 2019

    मक़दूम शाह मंसूर जहनिया के शागिर्द थे एवज़ अली शाह पीर दमकी की मज़ार |





    जौनपुर। शिराज़े हिन्द जौनपुर में गंगा-जमुना की तहजीब का दीदार होता हैं। जी हा नगर का  प्रेमराजपुर मोहल्ला वो जगह है जहाँ जनपद सहित पूर्वांचल के सभी मज़हबो मिल्लत के लोग बड़ी अकीदत से अपना सर झुकाते हैं । यहाँ किसी मजहब की नहीं इंसानियत की बात होती है और वो पाक जगह है पीर दमक शाह बाबा रहमतुल्लाह अलैह का दर । 


    मक़दूम शाह मंसूर जहनिया के शागिर्द थे एवज़ अली शाह पीर दमकी जो ज्ञानी सूफी थे और उन्होंने शर्क़ी राज्य की स्थापना करने वाले ख्वाजा जहाँ मलिक सरवर मलिकुश्शर्क के महल के उजड़े हुए टीले को अपना निवास स्थान बनाया और पांच मुहर्रम को आपका देहांत हो गया |  


    मुहर्रम की पांचवी को पीर दमक शाह बाबा रहमतुल्लाह अलैह का एतिहासिक उर्स हर वर्ष लगता है | 

     https://www.youtube.com/user/payameamn

     https://www.indiacare.in/p/sit.html
     Chat With us on whatsapp

     Admin and Founder 
    S.M.Masoom
    Cont:9452060283
    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: मक़दूम शाह मंसूर जहनिया के शागिर्द थे एवज़ अली शाह पीर दमकी की मज़ार | Rating: 5 Reviewed By: एस एम् मासूम
    Scroll to Top