728x90 AdSpace


  • Latest

    शुक्रवार, 9 फ़रवरी 2018

    वरिष्ठ कांग्रेसी नेता श्रीमती गिरजा देवी तिवारी से एक यादगार मुलाक़ात |.....विडीयो

    वरिष्ठ काँग्रेसी नेता श्रीमती गिरजा देवी तिवारी के साथ 



    राजन तिवारी के साथ उनके घर पे । 
    जौनपुर के स्वतंत्रता सेनानी स्व० प० भगवती दीन  तिवारी को कौन नही जानता और उनके पौत्र  स्व० प० रत्नेश कुमार तिवारी  को तो जौनपुर के लोग आज तक भुला नही सके । स्व० प० रत्नेश कुमार तिवारी ना तो किसी बडे सरकारी पद पे थे और ना ही कोई विधायक रहे लेकीन उनकी ख्याती इतनी थी की जो किसी सरकारी पदाधिकारी या जनता द्वारा चुने गये नेता को भी नही मिलती और इस कारण ये था कि समाज के लोगो के बीच रह के उनके दुख दर्द को महसूस किया करते ,उनकी समस्याओं को सुलझाने में साथ देते रहते थे । समाज के हर वर्ग के लोगो में उनकी बड़ी इज्जत हुआ करती थी । 
    इंसान अगर नेक हो और समाज के प्रति ईमानदारी से समर्पित को तो वो मर के भी लोगो के दिलो में जीवित रहता है और इसीलिये आज भी स्व० प० रत्नेश कुमार तिवारी जीवित है और आज की नयी पीढ़ी को राह दिखा रहे है । 
    पुत्र अगर स्व० प० रत्नेश कुमार तिवारी जैसा हो तो यह सोंचना ही पड़ता है कि ऐसे पितृ की माता कितनी उच्च विचारो और संस्कारो वाली होगी । 

    वरिष्ठ काँग्रेसी नेता श्रीमती गिरजा देवी तिवारी  और उनके दोनो पौत्र 

    मानस तिवारी के साथ 
     स्व० प० रत्नेश कुमार तिवारी के साथ साथ उनकी माता श्रीमती गिरजा देवी तिवारी जो आज भी वरिष्ठ कांग्रेसी नेता है ,को जौनपुर बड़ी इज्जत देता है और इसका कारण भी श्रीमती गिरजा देवी का समाज के प्रति समर्पित होना है । गिरजा देवी स्वम  स्वतरंत्रता सेनानियों के घराने से सम्बन्ध रखती है  और विवाह  भी स्वतरंत्रता सेनानि  प० भगवती दीन  तिवारी के घराने में हो गया । आत्मविश्वास की कमी ना होने के कारण जब पारिवारिक ज़िम्मेदारियों को कामयाबी से निभाते हुए उन्होंने समाज सेविका की तरह राजनीति में क़दम रखा तो कामयाबी उनके क़दम छूने लगी । ये वो दौर था जब राजनोति में महिलाओं का योगदान काम कम ही हुआ करता था ।श्रीमती गिरजा देवी तिवारी ने महिलाओं के हक़ के लिए एक बड़ी लड़ाई लड़ी है फिर चाहे वो दहेज़ के खिलाफ हो या बाल विवाह के खिलाफ हो या महिलाओं पे किये जा रहे अत्याचारों के लिए लड़ी जा रही लड़ाई हो । 

    राजनीति में सक्रिय होने के बाद उन्हें ५ बार १९७७ और १९८० के बीच जेल  भी जाना पड़ा लेकिन हिम्मत नहीं हारी और समाज के लिए काम करती रही ।    शुरू से श्रीमती गिरजा देवी कांग्रेस के साथ जुडी रही और मछली शहर से इलेक्शन भी लड़ी । कांग्रेस के और सामाजिक संस्थाओं के बहुत से महत्वपूर्ण पदो को कुशलता से संभालते हुए गिरजा देवी ने अपना जीवन समाज और जौनपुर को समर्पित रखा और पिछले ३० वर्षों से आज भी उत्तर प्रदेश कांग्रेस (आई ) लखनऊ की मेंबर है । 

    स्व० प० रत्नेश कुमार तिवारी के पुत्र राजन तिवारी से जब मैं मिला तो पाया की वो अपने पिता का आइना है और उनमे वो सभी गुण मौजूद है जो उनके पिता में पाये जाते थे और आगे जा के एक बेहतरीन वकील और अधिवक्ता साबित होंगे और अपने पिता द्वारा समाज के हित  में किये जा रहे काम को आगे बढ़ाते रहेंगे । स्व० प० रत्नेश कुमार तिवारी के  दुसरे पुत्र मानस तिवारी जो इंजीनियर बनने वाले है उनसे जब यह पुछा की यह संस्कार आपको कहाँ से मिले तो उन्होंने छूटते ही अपनी दादी श्रीमती गिरजा देवी तिवारी का नाम लिया जिनसे उनके दोनों पौत्र बड़ा प्रेम करते हैं । 
    आज जब स्व० प० रत्नेश कुमार तिवारी जी की माता श्रीमती गिरजा देवी तिवारी से मुलाक़ात हुयी तो उनसे बहुत सी बातें हुयी   नयी और पुरानी राजनीति का अंतर तो कभी युवाओं के भविष्य और उनपे पश्चिमी सभ्यता के  में बात हुयी तो कभी सामाजिक समस्याओ पे । जौनपुर के समाज और उनसे जुडी समस्याओं के बारे में  श्रीमती गिरजा देवी की जानकारी देख के मैं अचमभित  था 

     श्रीमती गिरजा देवी तिवारी से मिल के अच्छा लगा क्यू की श्रीमती गिरजा देवी तिवारी मे एक अच्छी समाज सेविका ,अच्छी नेता, अच्छी माता और अच्छी पत्नी को मैने आज देखा और सबसे बड़ी बात न घमंड और ना दिखावा जब तक सामने बैठा रहा ऐसा कभी नहीं महसूस हुआ की किये राजनितिक पार्टी के वरिष्ठ नेता के सामने बैठा हूँ बल्कि  जैसे मैं अपनी ही परिवार में अपनी माँ के साथ बैठा बातचीत कर रहा हूँ । 

    श्रीमती गिरजा देवी तिवारी की दी हुई इज्जत मुझे हमेशा याद रहेगी |







    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: वरिष्ठ कांग्रेसी नेता श्रीमती गिरजा देवी तिवारी से एक यादगार मुलाक़ात |.....विडीयो Rating: 5 Reviewed By: S.M Masum
    Scroll to Top