728x90 AdSpace


  • Latest

    बुधवार, 13 सितंबर 2017

    सब कुछ उलझ गया है तो करें ज़िन्दगी को रिसेट | Part-१

    आपने अक्सर कंप्यूटर  या अंतरजाल पे फॉर्म भरते समय RESET का बटन देखा होगा जिसके दबा देने से सब कुछ पहले जैसा हो जाता है | ऐसे ही इंसान सामाजिक रिश्तों इत्यादि में अक्सर महसूस करता है की काश सब कुछ पहले जैसा हो जाता और जो कुछ उलझा हुआ है फिर से सुलझ जाता |

    यकीनन, हमारे पास बीते समय में लौटने के लिए कोई टाइम मशीन नहीं है लेकिन ज़रा सी कोशिशों के बाद आप अपनी उझानो को उलझी हुयी ज़िन्दगी को सुलझा अवश्य सकते हैं |

    बिगड़ा हुआ स्वास्थ : जी हाँ आप की गलत आदतें ही आपके बिगड़े हुए स्वास्थ की ज़िम्मेदार हुआ करती है | इसलिए यदि आप स्वास्थ की तरफ से परेशान हैं तो सबसे पहले यह जानने की कोशिश करें की आप की परेशानी आपकी किस गलत आदत या खान पान से है | यदि शराब है तो आज से क्या अभी से लग जायें इसका त्याग करने की कोशिश में क्यूँ की यह स्वास्थ के साथ साथ आप के सामाजिक और पारिवारिक रिश्तों को भी खराब करती है और इसे reset करने का मतलब है आप बेहतर स्वास्थ बेहतर सामाजिक और पारिवारिक रिश्तों की तरफ आपने क़दम बढाने  जा रहे हैं |

    इस शराबी के बटन को रीसेट करने के पहले अपने परिवार वालों को बता दें की आप ऐसा करने जा रहे हैं और उनसे भी सहयोग मांगें क्यूँ की वास्तविक जीवन में खुशियों पे पल के साथ इस आदत से छुटकारा पाना आसान हुआ करता है | अपने जीवन में रोमांटिक  बनें ,  कुदरत के नजारों जैसे बगीचे ,खेत इत्यादि के आस पास रहे और इनकी सुन्दरता को महसूस करें | अवश्य आप इस आदत से छुटकारा पाने में कामयाब होंगे |

    फिर क्यूँ ना शराब पीने की आदत के बटन को रीसेट करके खुद को उस दौर में ले जाया जाए जब आप के पास यह बुरी आदत नहीं थी?

    आगे ज़ारी :-सब कुछ उलझ गया है तो करें ज़िन्दगी को रिसेट |  शराब

    -लेखक एस एम् मासूम.

    इंतज़ार करें भाग दो कैसे पाएं छुटकारा Diabeties aur Heart Disease से ?

    • Blogger Comments
    • Facebook Comments

    0 comments:

    एक टिप्पणी भेजें

    हमारा जौनपुर में आपके सुझाव का स्वागत है | सुझाव दे के अपने वतन जौनपुर को विश्वपटल पे उसका सही स्थान दिलाने में हमारी मदद करें |
    संचालक
    एस एम् मासूम

    Item Reviewed: सब कुछ उलझ गया है तो करें ज़िन्दगी को रिसेट | Part-१ Rating: 5 Reviewed By: M.MAsum Syed
    Scroll to Top